सभी आध्यात्मिक जगत की सबसे बेहतरीन ख़बरें
ब्रेकिंग
सही शिक्षा, सही सोच और सही ज्ञान ही हमें ताकत दे सकता है कला के जादू से जीवंत हो उठी रचनाएं, सम्मान से बढ़ाया कलाकारों का मान कलाकार कैनवास पर उकेर रहे मन के भाव कारगिल युद्ध में परमात्मा की याद से विजय पाई: ब्रिगेडियर हरवीर सिंह भारत और नेपाल में भाईचारा का नाता है: नेपाल महापौर विष्णु विशाल राजनेताओं का जीवन आध्यात्मिक होगा तो भारत समृद्ध बनेगा सेना जितनी सशक्त रहेगी हम उतनी शांति से रहेंगे: नौसेना उपप्रमुख घोरमडे
टीम को ठीक रखो तो माल के लिए ग्राहक ढूंढने की नही पडेगी जरूरत - Shiv Amantran | Brahma Kumaris
टीम को ठीक रखो तो माल के लिए ग्राहक ढूंढने की नही पडेगी जरूरत

टीम को ठीक रखो तो माल के लिए ग्राहक ढूंढने की नही पडेगी जरूरत

महाराष्ट्र राज्य समाचार

सनराइज कैंडल्स के डॉ. भावेश भाटिया के विचार

शिव आमंत्रण, पुणे। युवाओं के शारीरिक, मानसिक, सामाजिक और आध्यात्मिक विकास के लिए भर लो उड़ान छु लो आसमान थीम के तहत ऑनलाइन वेबिनार आयोजित किया गया जिसके मुख्य बिंदु मोटिवेशनल टॉक्स, एक्सपर्टस के द्वारा काउंसलिंग, लाइव मेडिटेशन, एक्टिविटीज, चैलेंजेज रहे। इस सेशन में मुख्य वक्ता के तौर पर प्रख्यात उद्यमी एवं सनराइज कैंडल्स के संस्थापक डॉ. भावेश भाटिया, एसपीएनएस फर्निचर्स के मैनेजिंग डायरेक्टर आशीष गुजर तो वही आईटी प्रोफेशनल बीके निक्की ने विषय के तहत अपने उद्बोधन दिए।
इस मौके पर डॉ. भावेश भाटिया ने कहा, हमारी बनाई हुई कैंडल्स पूरे जहां को कर रही है रोशन। इससे जादा खुशी की बात क्या हो सकती है। लोग कहते है ग्राहकों का ध्यान रखो, लेकिन मेरा अनुभव कहता है कि ग्राहक तक जानेवाला माल बनानेवाली टीम को ठीक रखे, उनको संभाले या उनको शोषण न हो इस पर ध्यान दे तो अपने को दुनिया की कोई भी ताकद रोक नही सकती। इससे माल अच्छा बनता है और ग्राहक अपने आप खुश होता है। बाकी ग्राहक का खयाल आप को है लेकिन अपने पास सेवा देनेवालों को कोई सुविधा नही दे रहे हो, दबाव से काम ले रहे हो तो आपका माल भी ठीक नही बनेगा और ग्राहक भी संतुष्ट नही बनेगा।
आशीष गुजर ने कहा, कई लोग कहते है ना कि मै ये करूंगा, वो करूंगा, ऐसे करना है, वैसे करना है लेकिन उसकी कोई समय रेखा निश्चित नही होती। वह केवल ड्रीम है, सपने है, उससे कुछ हासिल नही होता। अगर आपको जीवन में कुछ हासिल करना है तो गोल रखना बहुत जरूरी है। वह गोल स्पसिफिक भी होना चाहिए, मेजरेबल होना चाहिए, वास्तव होना चाहिए, अचिवेबल होने चाहिए। ऐसे गोल रखेंगे तो सफलता की गैरंटी निश्चित है।
बीके निक्की ने कहा, हम सोचते बहुत ऊंचा है, कोई भी अपने लिए कम नही सोचता लेकिन रिजल्ट आने में एक गैप दिखाई देता है। गैप कम करने के लिए एक आयने की तरह अपने आप को देखेंगे और कौन सी बातों पर थोडासा ध्यान देने की आवश्यकता है यह नोट करे तो सफलता पाने में आपको कोई रोक नही सकता।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *