सभी आध्यात्मिक जगत की सबसे बेहतरीन ख़बरें
ब्रेकिंग
सही शिक्षा, सही सोच और सही ज्ञान ही हमें ताकत दे सकता है कला के जादू से जीवंत हो उठी रचनाएं, सम्मान से बढ़ाया कलाकारों का मान कलाकार कैनवास पर उकेर रहे मन के भाव कारगिल युद्ध में परमात्मा की याद से विजय पाई: ब्रिगेडियर हरवीर सिंह भारत और नेपाल में भाईचारा का नाता है: नेपाल महापौर विष्णु विशाल राजनेताओं का जीवन आध्यात्मिक होगा तो भारत समृद्ध बनेगा सेना जितनी सशक्त रहेगी हम उतनी शांति से रहेंगे: नौसेना उपप्रमुख घोरमडे
चारों स्तरोपर विकसीत को ही कह सकते है शक्तिशाली युवा - Shiv Amantran | Brahma Kumaris
चारों स्तरोपर विकसीत को ही कह सकते है शक्तिशाली युवा

चारों स्तरोपर विकसीत को ही कह सकते है शक्तिशाली युवा

बिहार राज्य समाचार

श्यामनगर के वेबीनार में व्यक्त विचार

शिव आमंत्रण, श्यामनगर। बिहार के श्यामनगर सेवाकेंद्र और ब्रह्माकुमारीज़ के युवा प्रभाग द्वारा माइ फैमिली अ सर्कल ऑफ स्ट्रेंग्थ विषय पर ऑनलाइन वेबिनार का आयोजन किया गया। इस उपलक्ष्य में पारादीप में मरीन पायलट कैप्टन अमित कुमार, काउंसलर और लाइफ कोच अमित विश्वास, श्याम नगर सेवाकेंद्र प्रभारी बीके कमला, राजयोग शिक्षिका बीके खुशबू ने युथ का अपने परिवार के साथ अच्छा रिलेशन कैसे बनें इस पर अपना वक्तव्य दिया।
अमित विश्वास ने कहा, युथ एम्पावरमेंट के चार स्तर होते है। उसमे पहला स्तर है शारीरिक, दूसरा है मानसिक। शारीरिक के साथ वह मानसिक रूप में भी जा शक्तिशाली हो उसे युथ कहा जाता है। तिसरा सोशल है और चौथा है आध्यात्मिक स्तर। इसमे एक एक के साथ गहरा रिलेशन होता है। इसलिए चारो स्तरों मे वह जुडा है तो उसे सही अर्थ से युवा कह सकते है। ये चार न होने से अकेलापन, गलत संग, आत्महत्या की प्रवृत्ति, भावनिक रूप से कमजोर, नशापान, एनोसोग्रशिया आदि बाते आती है। आत्महत्या अचानक एक दिन नही होती है। उसके पीछे ऐसे बहुत कारण होते है और बहुत दिनों से चलते आते है और एक दिन उसका परिवर्तन आत्महत्या मे होता है।
कैप्टन अमित ने कहा, ब्रह्माकुमारी बहने छोटी छोटी बाते बताकर अच्छे परिवर्तन ले आती है। वैसे दिखने मे वह छोटी लगती है लेकिन वह सब धारण करे तो समाज एक अच्छा स्वरूप ले सकता है जैसे एक वृक्ष के जड को पानी दिया जाए तो फलता – फुलता है वैसे।
श्याम नगर सेवाकेंद्र प्रभारी बीके कमला ने कहा, पारिवारक भावना जहां भी रहे वहां एक दूसरे के साथ रिलेशन अच्छे रहते है फिर वह अपना परिवार हो या कोई व्यवसाय, धंदा, कारखाना आदि। लेकिन आध्यात्मिकता के कमी के कारण उसमे कटौति आ गई है और राजयोग के माध्यम से उसको हम प्राप्त कर सकते है, बढा सकते है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *