सभी आध्यात्मिक जगत की सबसे बेहतरीन ख़बरें
ब्रेकिंग
शांतिवन आएंगे मुख्यमंत्री, स्वर्णिम राजस्थान कार्यक्रम को करेंगे संबोधित ब्रह्माकुमारीज़ में व्यवस्थाएं अद्भुत हैं: आयोग अध्यक्ष आपदा में हैम रेडियो निभाता है संकटमोचक की भूमिका भाई-बहनों की त्याग, तपस्या, सेवा और साधना का यह सम्मान है परमात्मा एक, विश्व एक परिवार है: राजयोगिनी उर्मिला दीदी ब्रह्माकुमारीज़ मुख्यालय में आन-बान-शान से फहराया तिरंगा, परेड की ली सलामी सामाजिक बदलाव और कुरीतियां मिटाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभा रहा रेडियो मधुबन
कर्नाटक से आए दस हजार लोगों ने लिया नशामुक्त भारत का संकल्प - Shiv Amantran | Brahma Kumaris
कर्नाटक से आए दस हजार लोगों ने लिया नशामुक्त भारत का संकल्प

कर्नाटक से आए दस हजार लोगों ने लिया नशामुक्त भारत का संकल्प

कर्नाटक मुख्य समाचार राज्य समाचार

– मेडिकल विंग की ओर से देशभर में चलाया जा रहा है नशामुक्त भारत अभियान

शिव आमंत्रण,आबू रोड (राजस्थान)। ब्रह्माकुमारीज़ संस्थान के अंतरराष्ट्रीय मुख्यालय शांतिवन में चल रहे परमात्म अनुभूति शिविर में कर्नाटक से पहुंचे दस हजार से अधिक लोगों को नशामुक्त भारत बनाने का संकल्प कराया।
कार्यक्रम में मेडिकल विंग के सचिव डॉ. बनारसी लाल ने सभी को संकल्प कराते हुए कहा कि आज इस पावर धरा पर सभी संकल्प करें कि हम अपने परिवार, आसपड़ोस और समाज में जो व्यक्ति नशा करता है उसे इससे दूर रहने की समझाइश देकर नशा मुक्त करेंगे। नशे की गिरफ्त में फंसे लोगों को ज्ञान देकर उनका मार्गदर्शन करेंगे। नशे से होने वाले दुष्परिणाम से रुबरु कराएंगे। उन्हें आध्यात्मिक ज्ञान और राजयोग मेडिटेशन की शिक्षा देकर जीवन को सुख-शांतिमय बनाने में अपना तन-मन, समय, संकल्प से सहयोग देंगे। भारत को नशामुक्त बनाने में अपना संपूर्ण रीति सहयोग देंगे।

संकल्प लेते हुए डायमंड हाल के विशाल सभागार में मौजूद कर्नाटक से आए लोग।

उन्होंने कहा कि संपूर्ण देश में चलाए जा रहे नशामुक्त भारत अभियान को सहकारी और गैर-सहकारी संगठनों से सकारात्मक सहयोग मिल रहा है। लोग तेजी से अभियान से जुड़ रहे हैं। हजारों लोगों ने इन कार्यक्रमों से जुड़कर नशामुक्ति का संकल्प लिया है। लोगों की सेवाकेंद्रों के माध्यम से काउंसलिंग कर नशा छुड़ाया जा रहा है।
इस दौरान वरिष्ठ राजयोग शिक्षिका बीके ऊषा दीदी ने कहा कि परमात्मा की हम बच्चों से आस है कि मेरे लाड़ले बच्चे तुम्हें स्वं का उद्धार कर जग परिवर्तन के कार्य में अपना सहयोग देना है। जैसे हमारा जीवन बदला है ऐसे दूसरों का जीवन बदलना है। इसलिए पहले ज्ञान-योग से अपने जीवन को आदर्श बनाकर दूसरों के लिए प्रेरणास्रोत बनना है। इस मौके पर कर्नाटक से आए दस हजार से अधिक लोग मौजूद रहे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *