सभी आध्यात्मिक जगत की सबसे बेहतरीन ख़बरें
ब्रेकिंग
परमात्मा की छत्रछाया में रहें तोे सदा हल्के रहेंगे: बीके बृजमोहन भाई ईशु दादी का जीवन समर्पण भाव और ईमानदारी की मिसाल था ब्रह्माकुमारीज़ जैसा समर्पण भाव दुनिया में आ जाए तो स्वर्ग बन जाए: मुख्यमंत्री दिव्यांग बच्चों को सिखाई राजयोग मेडिटेशन की विधि आप सभी परमात्मा के घर में सेवा साथी हैं थॉट लैब से कर रहे सकारात्मक संकल्पों का सृजन नकारात्मक विचारों से मन की सुरक्षा करना बहुत जरूरी: बीके सुदेश दीदी
संस्कृति की रक्षा का बीडा स्वयं महिलायों को उठाना होगा - Shiv Amantran | Brahma Kumaris
संस्कृति की रक्षा का बीडा स्वयं महिलायों को उठाना होगा

संस्कृति की रक्षा का बीडा स्वयं महिलायों को उठाना होगा

उत्तर प्रदेश राज्य समाचार

महिला दिन पर बीके आदर्श का विवेचन

शिव आमंत्रण, ग्वालियर। ग्वालियर के माधौगंज सेवाकेंद्र पर संस्कृति की संरक्षक महिला विषय पर लश्कर सेवाकेंद्र प्रभारी बीके आदर्श, नशामुक्ति केंद्र की संचालिका माधवी सिंह, महिला मोर्चा मंडल की अध्यक्षा पद्मा शर्मा समेत अन्य विशिष्ट महिलाओं ने प्रकाश डाला।
ग्वालियर सेवाकेंद्र प्रभारी बीके आदर्श ने कहा, कि संस्कृति का सम्बन्ध संस्कारों से है। व्यक्ति का रहन सहन, खान-पान, वेशभूषा, आचरण, चरित्र संस्कृति के अंतर्गत आते हैं। भारतीय संस्कृति आदि काल से उच्च, श्रेष्ठ दैवी संस्कृति रही है जिसके आदर्श बहुत ऊंचे थे। काल चक्र घूमने के साथ अनेक विदेशी आक्रमण होने से अनेक संस्कृतियों का संक्रमण भारतीय संस्कृति से होने लगा। माहिलाओं को सुरक्षा के कारण चार दीवारी में रखा जाने लगा। इससे नारी अनेक कुरीतियो, रूढिवादी सोच में जकडने लगी। अत: संस्कृति और संस्कारों की रक्षा का बीडा स्वयं महिलायों को उठाना होगा। वह स्वयं सुसंस्कृत हो, सशक्त हो तो भावी पीढ़ी का श्रेष्ठ संस्कारों से सिंचन कर नारी भारतीय संस्कृति के आदर्शों के प्रति उनमे आस्था जाग्रत कर सकती है। पर उसमे रूढियो एवं कुरीतियों का स्थान न हो। अत: महिलाओं के भी नैतिक एवं आध्यात्मिक सशक्तिकरण की आवश्यकता है जिससे वह भारतीय संस्कारों एवं संस्कृति की संरक्षक हो। प्रजापिता ब्रह्माकुमारी ईश्वरीय विश्व विद्यालय के माध्यम से स्वयं परमात्मा शिव धरा पर अवतरित होकर आदि सनातन देवी संस्कृति की स्थापना नारी को निमित्त बनाकर कर रहें हैं। अत: इस परिवर्तन के समय में महिलाएं परमात्मा की श्रीमत पर चलकर अपने जीवन एवं परिवार को दिव्य व श्रेष्ठ बनाएं।

इसके साथ ही श्रीमति माधवी सिंह (संचालिका नशा मुक्ति केंद्र ), श्रीमति पद्मा शर्मा (महिला मोर्चा मंडल अध्यक्ष ), श्रीमति बबिता डाबर (समाज सेवी), ऋचा शिवहरे, नीलम जगदीश गुप्ता (संस्थापिका संस्कार मण्डली), कल्पना मेहता (पूर्व अध्यक्ष इनर विल क्लब), श्रीमति आशा सिंह (समाज सेविका) ने विषय के अंतर्गत अपनी शुभकामनायें रखीं और नारी के सम्मान पर जोर दिया और कहा, जहाँ नारी का सम्मान होता है वहां देवता रमण करते है।
कार्यक्रम के शुभारम्भ में सभी का तिलक और फूल से स्वागत किया गया साथ ही कु. बुलबुल ने स्वागत नृत्य किया। कार्यक्रम का शुभारम्भ दीप प्रज्वलन के साथ किया गया। संचालन श्रीमति आशा सिंह ने किया तथा सभी का धन्यवाद बीके प्रहलाद ने किया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *