सभी आध्यात्मिक जगत की सबसे बेहतरीन ख़बरें
ब्रेकिंग
सही शिक्षा, सही सोच और सही ज्ञान ही हमें ताकत दे सकता है कला के जादू से जीवंत हो उठी रचनाएं, सम्मान से बढ़ाया कलाकारों का मान कलाकार कैनवास पर उकेर रहे मन के भाव कारगिल युद्ध में परमात्मा की याद से विजय पाई: ब्रिगेडियर हरवीर सिंह भारत और नेपाल में भाईचारा का नाता है: नेपाल महापौर विष्णु विशाल राजनेताओं का जीवन आध्यात्मिक होगा तो भारत समृद्ध बनेगा सेना जितनी सशक्त रहेगी हम उतनी शांति से रहेंगे: नौसेना उपप्रमुख घोरमडे
जो श्रेष्ठ विचार स्वयं को चाहिए- वही औरों को देते चलें… - Shiv Amantran | Brahma Kumaris
जो श्रेष्ठ विचार स्वयं को चाहिए- वही औरों को देते चलें…

जो श्रेष्ठ विचार स्वयं को चाहिए- वही औरों को देते चलें…

समस्या-समाधान

सबेरे उठ सुंदर विचारों से मन को चार्ज करें

राजयोग के अभ्यास के साथ-साथ सबेरे उठने का नियम बहुत अच्छा है। जब हम उठें तब सुंदर विचारों से मन को चार्ज कर लें। मैं महान आत्मा सभी गुणों, शक्तियों, खजानों से भरपूर हंू। ऐसे कई वैराइटी संकल्प करें। जो लोग ८ बजे, ९ बजे, १० बजे, कई लोग तो और भी लेट १२ बजे सो कर उठते हैं। उनका सुस्त जीवन सफल जीवन नहीं हो सकता। जिस मनुष्य ने कभी उगते हुए सूरज का दर्शन ही नहीं किया है, उसके भाग्य का सूरज तेजी से अस्त हो जाता है। भाग्य केवल धन संपदा को नहीं कहते हैं। कोई कहे मेरे पास बहुत धन संपदा है। रात को १ बजे २ बजे तक होटलों में घूमना गंदा पीना-खाना, फिर दिन १२ से २ बजे तक सोया रहना। क्या ये भाग्य है? नहीं, ये दुर्भाग्यवश अज्ञान अंधकार है। इसको कोई भाग्य समझ ले, यह बहुत बड़ी मिस्टेक है। ऐसा भाग्य जल्दी ही साथ छोड़ जाएगा। फिर अस्पतालों केबहुत चक्कर काटने पड़ते हैं।

मनोविकार: मनुष्य को गंदगी में धकेल रहा
मनोविकार, सेक्स मनुष्य को गंदगी में धकेल रहे है। मुंबई की कहानी बड़ी वन्डरफुल होती है। एक ही परिवार के बच्चों में इधर लडक़ी का तलाक हुआ, उधर आस्ट्रेलिया में लडक़ेका तलाक हुआ। कारण सेक्सुअल फीलिंग, घमंड जैसे मनोविकार आदि हैं। इस संसार में आज अगर देखें तो ६० प्रतिशत पाप सेक्स, वासनाओं कीवजह से ही हो रहे हैं।
यह सब पापों का मूल बीज है। इसलिए गीता में भगवान ने कहा- हे अर्जुन, इस काम महाबैरी को जीत। कोई नहीं जानता इस काम को। डॉक्टर, वैज्ञानिकों ने गलत प्रचार कर दिया। अब भगवान आकर कह रहे हैं-इस संसार को यदि संभालना है और अपने जीवन को सुख शांति का भंडार बनाना है तो पवित्र बनो। यहां से पवित्रता ब्रह्मचर्य का जल्द लक्ष्य लें। अन्यथा इसके बिना सरवाइव करना संसार में बहुत कठिन हो जाएगा। वासनाओं की ही वजह से अधिकतर मानसिक रोग बढ़ रहें हैं।

मिले हुए भाग्यशाली जीवन का दुरुपयोग न करें
यदि कोई अपने प्रालब्ध भाग्य यानी पूर्व केअच्छे कर्मों के फल को दुरुपयोगकरता है तो वैसा भाग्य जल्दी ही साथ छोड़ जाता है। किसी केपास पैसा बहुत हो गया तो गंदा खान-पान अपनाकर जीवन गंदा कर लेते हैं, तो पैसा भी साथ छोड़ जाता। अगर पैसा साथ न भी छोड़े तो समय पर पैसा काम नहीं आएगा। ऐसा बहुत दिख रहा है। एक फैक्ट्री मालिक से जब हम मिल रहे थे तो उन्होंने बताया कि अपनी पत्नी के इलाज के लिए तीन करोड़ रुपए लेकर डॉक्टरों केपास बैठा था कि ये ले लो, इसे बचा दो। कोई नहीं बचा सका तो हम सभी सबेरे समय को जरूर सार्थक कर खुद पर ध्यान देंगे। खुद को टाइम देकर नित्य राजयोग काअभ्यास करें। समय पर सोना, समय पर उठना, ये स्वास्थ्य और बुद्धि को श्रेष्ठ बनाने का अच्छा तरीका है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *