सभी आध्यात्मिक जगत की सबसे बेहतरीन ख़बरें
ब्रेकिंग
हम संकल्प लेते हैं भारत काे बनाएंगे व्यसनमुक्त उत्कृष्ट प्रदर्शन करने वाले बच्चों को किया सम्मानित नई सामाजिक व्यवस्था के लिए सकारात्मक दृष्टि और नैतिक मूल्य जरूरी नींबू दौड़, बोरा दौड़ और लंबी कूद में बच्चों ने दिखाए करतब अपने काम को खुशी और आनंद के साथ करें: बीके शिवानी दीदी फिर से रामराज्य लाने में मीडिया की रहेगी महत्वपूर्ण भूमिका: मंत्री खराड़ी बच्चों ने स्केटिंग, नृत्य और रस्साकशी में दिखाई प्रतिभा
आप बहुत खास हैं… - Shiv Amantran | Brahma Kumaris
आप बहुत खास हैं…

आप बहुत खास हैं…

जीवन-प्रबंधन
  • अपनी खूबियों को पहचानें   

शिव आमंत्रण, आबू रोड ( राजस्थान )। खुद के बारे में चिंतन करें, चैकिंग करें अपने आप की। मेरी नेचर क्या है? अपने -स्वभाव को चेक करें। अलग-अलग परिस्थितियों में अलग-अलग लोगों के साथ मेरा व्यवहार कैसा होता है। परिस्थिति अगर मेरे अनुसार नहीं होती तो मेरा रिएक्शन कैसा होता है? कोई मेरा कहना नहीं मानता, कार्य मेरे अनुसार नहीं करता तो मेरा व्यवहार कैसा होता है? कोई मेरे साथ गलत करता है मेरे लिए बुरा कहता है तो मुझे कैसा लगता है? किसी को क्षमा करना किसी की बात को भूल जाना मेरे लिए कितना आसान है? आज अगर मुझे अपने अंदर कोई एक चीज परिवर्तन करना हो यानी कोई एक आदत बदलनी हो तो वह क्या होगी? हम कितने खास हैं कैसे समझें? 

दूसरों को दोष न देकर, खुद को बदलें – 

आपने पहले खुद की चैकिंग की है? देखा जाए तो सारा दिन हम दूसरों की चैकिंग करते हैं। कितनी बार खुद के जीवन में कभी बैठ कर अपनी चैकिंग की? अगर किसी ने हमें कहा भी आपको ऐसा नहीं कहना था। आपको ऐसा नहीं करना चाहिए था। क्या मुझे उन्हें ऐसा कहना चाहिए था? अब शादी ही ऐसे लोगों से हुई क्या करें? 10-20- 30 साल से उनके साथ रह रहें हैं तो साथ रहते- रहते चिड़चिड़े हो ही जाना था और क्या होना था? लेकिन अब ऐसे सोचना कि अब उनके साथ रहते हुए भी हम कुछ और हो सकते हैं। आज इसे पढ़ने के बाद उनके साथ-साथ ही चलेंगे। मान लिया कि आपके आसपास लोग गलत प्रकार का भोजन खा रहे हैं। आपको पता लग गया ये सब गलत भोजन है लेकिन 25-30 साल पहले आप भी वही खाना खा रहे थे। अब एक दिन जागृति आई कि मुझे ये सब भोजन नहीं चाहिए। क्योंकि मेरा शारीरिक-मानसिक रिजल्ट ठीक नहीं रहा तो मुझे आज से हेल्थ चाहिए। तो हमने निर्णय ले लिया मुझे नहीं खाना। तो आसपास के लोग थोड़ी ही खाना बंद कर देंगे? क्योंकि उन्होंने निर्णय नहीं लिया है। निर्णय किसने लिया है? हमने लिया है। इसलिए हम केवल खुद को बदल सकते हैं, दूसरे हमें देखकर बदलते हैं। 

अपनी लाइफ को करें एंजॉय – 

आज एक संस्कार पक्का करें। आज हम अपने फोन को फोन के लिए यूज करेंगे। कैमरा के लिए नहीं। जब कोई ऐसे मौके पर जहां फोटो खींचनी होती है तो वहां फोटोग्राफर होता ही है। हम सबको फोटोग्राफर बनने की क्या जरूरत है? जिसका वो रोल वह रोल प्ले करे। हम लोग अपने लाइफ को इंजॉय महसूस करें। सिर्फ कैप्चर नहीं करते रहेंगे। हमें लगता है इन चीजों को कैप्चर करके हमेशा के लिए अपना बना लेंगे? सबकुछ कैप्चर करने के चक्कर में एक-एक दिन बीतता जा रहा है। जो महसूस करने की प्रक्रिया थी वो धीरे- धीरे कम होती जा रही है। आजकल लोग फेसबुक पर हर चीज की फोटो डालते हैं। हम ये खा रहे हैं, हम यहां मार्केट में खड़े हैं। फोटो निकाला हो गया एंजॉय?

कोई भी कर्म के पहले चेक करें रिजल्ट –

जो सब लोग कर रहें वो नहीं करेंगे। क्योंकि इस समय डायरेक्शन ऑफ एनर्जी है वो एक अलग  डायरेक्शनमें है। अभी बहुत फास्ट स्पीड पर भी है। डायरेक्शन भी डिस्चार्ज की तरफ है और स्पीड भी बहुत फास्ट है। अगर उसका नकल किया तो निश्चत है अपनी स्पीड और बैटरी दोनों फास्ट डिस्चार्ज होने वाली है। तो दूसरे जो कर रहें हैं उसको नकल करने से पहले एक क्षण रुकना है। चेक करना इस कर्म का रिजल्ट क्या होने वाला है? अगर वो मेरे फायदे में है तो करना, नहीं तो नहीं करना, छोड़ देना। सब कर रहें हो तो उनको करने दो। वो सब लोग जो कर रहें हैं वो कलियुग को बढ़ा रहे हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *