सभी आध्यात्मिक जगत की सबसे बेहतरीन ख़बरें
ब्रेकिंग
सही शिक्षा, सही सोच और सही ज्ञान ही हमें ताकत दे सकता है कला के जादू से जीवंत हो उठी रचनाएं, सम्मान से बढ़ाया कलाकारों का मान कलाकार कैनवास पर उकेर रहे मन के भाव कारगिल युद्ध में परमात्मा की याद से विजय पाई: ब्रिगेडियर हरवीर सिंह भारत और नेपाल में भाईचारा का नाता है: नेपाल महापौर विष्णु विशाल राजनेताओं का जीवन आध्यात्मिक होगा तो भारत समृद्ध बनेगा सेना जितनी सशक्त रहेगी हम उतनी शांति से रहेंगे: नौसेना उपप्रमुख घोरमडे
हमारे जीवन में वही मिलता है जो हम हैं… - Shiv Amantran | Brahma Kumaris
हमारे जीवन में वही मिलता है जो हम हैं…

हमारे जीवन में वही मिलता है जो हम हैं…

सच क्या है
We get what we are in life… Dr. Sachin
  • अंतर्मन-संदेह या चिंता से नकारात्मक विचार से अपना विश्वास कमजोर न करें…
  • प्रतिदिन कम से कम पांच मिनट मेडिटेशन जरूर करें…

आ कर्षण के नियम का अर्थ यह नहीं है कि हमें वही मिलता है जो हम चाहते हैं, इसका अर्थ है कि हम वही पाते हैं जो हम हैं। हमें यह याद रखने की जरूरत है कि आकर्षण का नियम हमेशा काम करता है। ध्यान से सोचें, आपके विचार आपकी वास्तविकता को प्रभावित करते हैं।

आप जो हैं उसे प्राप्त करें… आकर्षण के नियम का मतलब यह नहीं है कि आप जो चाहते हैं उसे प्राप्त करें, इसका मतलब है कि आप जो हैं उसे प्राप्त करें। आप विचारों, गुणों, कौशल और आदतों के समूह हैं। आपको जो मिलने वाला है वह उनके अनुसार होगा।

ऊर्जाएं शुद्ध और सकारात्मक बनी रहतीं... जो ऊर्जा आप ब्रह्मांड में विकीर्ण करते हैं, वही आप अपनी वास्तविकता में प्रकट करते हैं। आप जो विकिरण करते हैं, उसमें आपके विचारों, भावनाओं और व्यवहारों की ऊर्जाएं शामिल हैं। आध्यात्मिक जीवन शैली का पालन करने से ये ऊर्जाएँ शुद्ध और सकारात्मक बनी रहती हैं।

जो आप दृढ़ता से विश्वास करते हैं, वही आप बन जाते है…यदि आप एक विचार बनाते हैं क्योंकि मैं एक शांतिपूर्ण प्राणी हूं लेकिन 4 बार आप गुस्सा का विचार बनाते हैं तो गुस्सा आना स्वाभाविक है। और फिर अगर बार-बार आपको लगता है कि मैं शांत हूं। लेकिन बाद में आप फिर कहते हैं कि बिना क्रोध के कुछ नहीं होता। आप जो भी अधिक बार सोचते हैं और दृढ़ता से विश्वास करते हैं, वही आप बन जाते हैं।

प्रतिदिन के तनाव को, छोटे
से मेडिटेशन से राहत
दीजिए, जिससे आपके मन और
शरीर दोनों को आराम मिलेग

अपने सकारात्मक विश्वास को कमजोर न करें…

आपके विचार ही आपके भाग्य का निर्माण करते हैं। उन्हें साफ करें और केवल उस वास्तविकता के बारे में सोचें जो आप चाहते हैं। संदेह या चिंता के एक भी नकारात्मक विचार से अपने सकारात्मक विश्वास को कमजोर न करें। अपने मनचाहे जीवन को प्रकट करने के लिए अपनी आंतरिक शक्ति को जागृत करें।

रोजाना मेडिटेशन जरूर करेअपने तनाव के स्तर को कम करने के लिए, प्रतिदिन कम से कम 5 मिनट मेडिटेशन जरूर करें। आज तनाव जीवन का सामान्य हिस्सा बन गया है, मगर इसकी अति आपको कुचल देगी। दिन प्रतिदिन के तनाव को, छोटे से मेडिटेशन से राहत दीजिये, जिससे आपके मन और शरीर दोनों को आराम मिलेगा। साधारण मेडिटेशन के लिए, आरामदेह पोज़ीशन में बैठिए, अपनी सांस पर फ़ोकस करिए और विचारों को आने और जाने दीजिये।

ऐसे विचार मन में लाइये कि चीजें कैसे ठीक हो सकती है…अपनी चिंताओं की जगह, ऐसे विचार मन में लाइये कि चीज़ें कैसे ठीक हो सकती हैं। चिंता आपसे वह प्रदर्शित करवा सकती है जिससे बचने का आप प्रयास कर रहे हैं। जब चिंता सामने आए, तब उसे यह कह कर चुनौती दीजिये कि उनके वास्तविकता में बदलने की संभावना कितनी है। फिर, सोचिए कि अतीत में जब आप चिंतित हुए थे तब क्या हुआ था। उसके बाद, सोचिए कि आप जिसकी चिंता कर रहे हैं अगर वह वास्तव में हो ही जाये, तो बुरे से बुरा क्या हो सकता है। आपको संभवत: एहसास होगा कि लॉन्ग-रन में यह कोई इतनी बड़ी बात नहीं है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

खबरें और भी