सभी आध्यात्मिक जगत की सबसे बेहतरीन ख़बरें
ब्रेकिंग
नकारात्मक विचारों से मन की सुरक्षा करना बहुत जरूरी: बीके सुदेश दीदी यहां हृदय रोगियों को कहा जाता है दिलवाले आध्यात्मिक सशक्तिकरण द्वारा स्वच्छ और स्वस्थ समाज थीम पर होंगे आयोजन ब्रह्माकुमारीज संस्था के अंतराष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक शुरू दादी को डॉ अब्दुल कलाम वल्र्ड पीस तथा महाकरूणा अवार्ड का अवार्ड एक-दूसरे को लगाएं प्रेम, खुशी, शांति और आनंद का रंग: राजयोगिनी दादी रतनमोहिनी इस विद्यालय की स्थापना से लेकर आज तक की साक्षी रही हूं: दादी रतनमोहिनी
बिना अध्यात्म के भौतिक विकास कभी भी सुख-शांति का आधार हो नहीं सकता है - Shiv Amantran | Brahma Kumaris
बिना अध्यात्म के भौतिक विकास कभी भी सुख-शांति का आधार हो नहीं सकता है

बिना अध्यात्म के भौतिक विकास कभी भी सुख-शांति का आधार हो नहीं सकता है

मुख्य समाचार

– कला और संस्कृति प्रभाग के सम्मेलन का राज्यपाल ने किया शुभारंभ
– देशभर से पहुंचे कलाकार, नाट्यकर्मी, कवि, गायक और संगीतकार
– मानपुर हवाई पट्‌टी पर जिला प्रशासन, भाजपा के पदाधिकारी और बीके सदस्यों ने किया स्वागत
– सकारात्मक परिवर्तन की कला से आनंदमय जीवन विषय पर आयोजन

शिव आमंत्रण/आबू रोड (राजस्थान)। आज वैज्ञानिकों और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के मार्गदर्शन में हमें चांद पर पहुंचा दिया। यह सब घटनाएं मानव के भौतिक विकास की परिचायक हैं। हमने बड़े-बड़े कारखाने, रेल पटरियां बनाईं, उद्योग स्थापित किए लेकिन जब आध्यात्मवाद की बात आती है तो हम बहुत पीछे चल रहे हैं। भौतिकवाद और आध्यात्मवाद जब एक-दूसरे का सहायक बनता है तो वह पूर्णता की ओर बढ़ता है। ब्रह्माकुमारीज़ इन दोनों चिंतन को लेकर आगे बढ़ रही है। हम आध्यात्मिक रूप से विकसित हुए बिना भौतिक साधनाें का सदुपयोग नहीं कर पाएंगे। बिना अध्यात्म के विकास कभी भी सुख-शांति का आधार हो नहीं सकता है। महान साइंटिस्ट ने कहा था कि साइंस, विज्ञान और आध्यात्मवाद जब एक-दूसरे के पूरक बनते हैं तो वह इस परमात्मा द्वारा बनाई गई सृष्टि का आनंद लेते हैं।
उक्त उद्गार गुजरात के राज्यपाल आचार्य देवव्रत ने व्यक्त किए। मौका था ब्रह्माकुमारीज़ संस्थान के शांतिवन परिसर स्थित डायमंड हाल में आयोजित कला-संस्कृति प्रभाग के राष्ट्रीय सम्मेलन का। राज्यपाल ने दीप प्रज्जवलन कर सम्मेलन का विधिवत उद्गाटन किया। इसमें देशभर से कला और संस्कृति प्रेमी भाग ले रहे हैं।
सकारात्मक परिवर्तन की कला से आनंदमय जीवन विषय पर संबोधित करते हुए राज्यपाल आचार्य ने कहा कि काम, क्रोध, लोभ, मोह, अहंकार ये मानव के शत्रु हैं। असली विजय अंदर की विजय है। हमारे चिंतन में, वेदों में बाहर की जीत को जीत नहीं माना जाता था। असली जीत हमारे अंदर की जीत है। अंदर के शत्रुओं को जीतने वाला ही विजेता है। यहां का चिंतन हमारी खुराक है। वैदिक साहित्य का पुरातन खजाना सकारात्मक और विश्वव्यापी चिंतन है। हमारी असली खुराक अध्यात्म चिंतन है जो ब्रह्माकुमारीज़ में मिलता है।  

सम्मेलन में राज्यपाल संबोधित करते हुए व मंचासीन अतिथिगण।

पहले युद्ध मन की भूमि में लड़े जाते हैं-
राज्यपाल ने कहा कि यूएनओ के विधान में एक बात लिखी है- जो युद्ध मैदान में लड़े जाते हैं, वह युद्ध पहले मानव मन की भूमि में लड़े जाते हैं। कोई सकारात्मक सोच को लेकर किसी से लड़कर दिखाए। कोई पहले मन को दूषित करेगा, क्रोध की आग, ईर्ष्या में जलाएगा तब ही दूसरों को दुख दे सकता है। इसलिए हम परमात्मा से कहते हैं कि हे! परमात्मा मेरा मन नियंत्रण में हो। राजयोग से ही मन पूरा नियंत्रण में आएगा। जीवन को सकारात्मकता की दिशा में बढ़ाएंगे तो पवित्रता आएगी, आनंद आएगा। यह चिंतन साधु-संत और ब्रह्माकुमारी बहनों द्वारा लोगों को दिया जा रहा है। हमने ही नारा दिया वसुधैव कुटुम्बकम्। सारी दुनिया मेरी है और सारी दुनिया मैं हूं। यही तरीका वेदों ने सिखाया। न हमने किसी को अपना बनाया न किसी के बने।

अध्यात्म हमारे ऋषियों का चिंतन था-
राज्यपाल ने कहा कि यस्तु सर्वाणि भूतानि आत्मन्येवानुपश्यति। सर्वभूतेषु चात्मानं ततो न विजुगुप्सते अर्थात् ओ भोले भक्त जिस समय तेरा चिंतन, तेरी सोच इतनी उदार बन जाएगी। जब तू इतना सकारात्मक सोचना शुरू कर देगा कि जब तू दूसरी की आत्मा को अपनी आत्मा में देखना शुरू कर देगा उसी दिन तेरा मुझसे साक्षात् हो जाएगा, तू मुझ से मिल जएगा। ऐसी इंसानियत जो दूसरे के मर्म रूपी घाव को अपने सकारात्मक विचारों से ठीक कर सकती हो वह आज दिखाई नहीं देती है। आज मनुष्य उस पत्थर की तरह हो गया है जो दूसरों की हत्या होने पर भी आंसू नहीं बहाता है। इसका कारण है हम भौतिक रूप से बहुत आगे बढ़े, लेकिन आध्यात्मिक रूप से पिछड़ते चले गए हैं। हमारा मेडिटेशन, ध्यान योग, वेद, दर्शन शास्त्र, रामायण, गीता यह हमारे ऋषियों का चिंतन था। आज नई पीढ़ियां इसे देख भी नहीं पाती हैं। आज ब्रह्माकुमारीज़ जैसे केंद्र इनके प्रसार में लगी हैं। इनके समस्त विश्व में परम विस्तार की आवश्यकता है। जिससे सही अर्थों में मानव अपने स्वरूप को समझकर के परमात्मा द्वारा प्रदत्त इस जीवन को सफल कर सके।

राज्यपाल का कार्यकारी सचिव बीके डॉ. मृत्युंजय भाई ने किया सम्मान।

साध्य की प्राप्ति के लिए साधन जरूरी हैं-
राज्यपाल ने कहा कि परमात्मा सतचित् आनंद, दयालु, निर्विकार, सर्वेश्वर, अमर, पवित्र है ऐसे परमात्मा के सान्निध्य में आकर ये सारे गुणों के आनंद मिलने का रास्ता ब्रह्माकुमारीज़ जैसे स्थलों पर आकर उदित होता है। हम भौतिक विकास के विरोधी नहीं हैं, वह हो। साध्य की प्राप्ति के लिए साधन जरूरी हैं। बिना शरीर के आत्मा कैसे इसमें आकर सुख-दुख की अनुभूति करेगी। शरीर सत्य तो है लेकिन इसके अलावा आत्मा अधिक सत्य है। आत्मा के कारण शरीर है, न कि शरीर के कारण आत्मा। ये दुनिया और शरीर की चमक-धमक नहीं ये इसकी ओट में बैठे आत्मा की है। आत्मा और परमात्मा से मिलाने का मार्ग राजयोग है। ब्रह्माकुमारीज़ के सौजन्य से दुनिया के 140 देशों में ये राजयोगी भाग्य विधाता बने हुए हैं जो सामाजिक दायित्वों का पालन करते हुए आध्यात्मिकता को परिचित करा रहे हैं। ऐसे संस्थान भारत की आत्मा के रूप में कला-संस्कृति को जनमानस में प्रेरित करने का कार्य करते हैं। यह मानवता की सबसे बड़ी सेवा है। आज यहां आकर अति प्रसन्नता है।

जब सिकंदर ने संत के आगे नतमस्तक हो गया-
राज्यपाल ने सिकंदर के भारत पर आक्रमण का एक किस्सा सुनाते हुए कहा कि जब सिकंदर जाते समय अपने साथ संत को ले जाने की जिद करने लगा तो संत ने कहा ओ सिकंदर जिसे तू देख रहा है, वह मैं नहीं हूं। जो तू देख रहा है, वह मैं नहीं हूं। जो मैं हूं उसे तेरी तलवार नहीं काट सकती। न ही आग जला सकती है। न पानी गला सकता। यह सुनकर सिकंदर की तलवार साधु के सामने गिर पड़ी और नतमस्तक हो गया। उसने अपनी हार स्वीकार कर ली। ये है भारत का अध्यात्म। हमारी विरासत।

यहां से मैंने सीखा सकारात्मक परिवर्तन लाना-
मुंबई से आईं प्रसिद्ध फिल्म एक्ट्रेस मधु शाह ने कहा कि आस्था चैनल पर ब्रह्माकुमारी शिवानी दीदी को सुना और धीरे-धीरे मेरी सोच बदलने लगी। उनकी क्लास से जाना कि हमें डेली लाइफ में कैसे थॉट्स करना है। दीदी को सुनकर मैं ब्रह्माकुमारीज़ से जुड़ी। यहां पर आना ही अपनेआप में बड़ी अचीवमेंट है। यहां अपनेआप मन मेडिटेशन में लगता है। यहां के पवित्र बाइव्रेशन हमें फील होते हैं। राजयोग का कमाल है कि यहां सभी के चेहरे चमकते हुए हैं। मैंने यहां से सीखा है कि हमें अपने कर्म से लोगों को अपने होने का अहसास कराना है। खुद में सकारात्मक परिवर्तन लाना है। यही बात में सीखकर जा रही हूं।

जो करना चाहिए वही करेंगे वह सकारात्मक है-
कला-संस्कृति प्रभाग की राष्ट्रीय अध्यक्षा राजयोगिनी चंद्रिका दीदी ने उपरोक्त विषय पर कहा कि वास्तव में हम सभी आत्माएं हैं। परम कलाकार परमपिता शिव परमात्मा 87 साल से विश्व परिवर्तन का कार्य करा रहे हैं। यहां 13 लाख से अधिक युवा, बड़े, बच्चे-बुजुर्ग इस कार्य में सहयोगी बने हुए हैं। आज से हम खुद को एक महान आत्मा, चैतन्य आत्मा, दिव्य आत्मा समझना शुरू कर दें। परमात्मा आनंद के सागर हैं, प्रेम के सागर हैं, सुख के सागर हैं, सर्वशक्तिमान हैं, उसी तरह मैं आत्मा आनंद स्वरूप, प्रेम स्वरूप, सुख स्वरूप हूं। इसी सोच, संकल्प और भावना से कर्म में आने से मन परिवर्तन, व्यक्ति परिवर्तन, समाज परिवर्तन होगा, हो रहा है। आज से संकल्प करें कि मुझे अपनेआप में सकारात्मक परिवर्तन करना है। जो करना चाहिए वही करेंगे वह सकारात्मक है। उन्होंने सभी को संकल्प कराया कि आज के इस कला संस्कृति कार्यक्रम के अंतर्गत मैं अपनेआप से संकल्प करता हूं कि मैं अपने जीवन में संपूर्ण सकारात्मकता को अपनाकर, औरों के जीवन में भी सकारात्मकता का चिंतन करके अपना संपूर्ण योगदान दूंगी।

खुद को सदा सकारात्मक सोचने का संकल्प लेते कार्यक्रम में मौजूद लोग। 

इन्होंने भी व्यक्त किए विचार-
– संयुक्त मुख्य प्रशासिका बीके डॉ. निर्मला दीदी ने कहा कि मन ही दुख और सुख का कारण है। जो पॉजीटिव सोचने वाला है तो उसी स्थिति को पॉजीटिव स्थिति से सोचेंगे और खुश रहेंगे। जो नेगेटिव सोचने वाले होंगे उसी को नेगेटिव सोचकर खराब कर देंगे।  साइंस ने सबकुछ हासिल कर लिया है लेकिन पॉजीटिव जीवन जीने की कला ब्रह्माकुमारीज़ सिखा रही है।
– कार्यकारी सचिव बीके डॉ. मृत्युंजय भाई ने स्वागत भाषण देते हुए कहा कि दुनिया में बहुत यूनिवर्सिटी हैं लेकिन पूरे विश्व में एकमात्र ब्रह्माकुमारीज़ स्प्रीचुअल यूनिवर्सिटी है। यहां मनुष्य से देवता बनने, सकारात्मक जीवन जीने की पढ़ाई पढ़ाई जाती है। जीवन को आनंदमय जीवन जीने की विधि सिखाई जाती है।
– गुजरात भावनगर से आईं वरिष्ठ राजयोग शिक्षिका राजयोगिनी तृप्ति दीदी ने राजयोग मेडिटेशन से गहन शांति की अनुभूति कराई। संचालन गोदावरी मुंबई से आईं जोनल को-ऑर्डिनेटर बीके नेहा बहन ने किया।

हवाई पट्‌टी पर इन्होंने किया राज्यपाल का स्वागत-
गुजरात के राज्यपाल आचार्य के आबू रोड मानपुर हवाई पट्टी पर स्वागत विशेष रूप से विधायक जगसीराम कोली, बीजेपी अध्यक्ष सुरेश कोठारी, नपा अध्यक्ष  मगनदान चरण, बीके तारा, बीके पूनम, पीआरओ बीके कोमल ने किया। इस मौके पर एसपी ज्येष्ठा मैत्रेयी, माउंट आबू एसडीएम सिद्धार्थ पलानीचमी और अन्य अधिकारीगण मौजूद रहे।

झलकियां-
– सुबह 6 से 6.30 बजे तक फिजिकल एक्सरसाइज कराई गई।
– 6.45 से 8.15 बजे तक मेडिटेशन सेशन
– 10.30 से 12 बजे तक उद्घाटन सत्र चला।
– राष्ट्रगान के साथ कार्यक्रम की शुरुआत हुई।
– समापन पर राज्यपाल का पगड़ी और शॉल पहनाकर सम्मान किया गया।
– राज्यपाल के आगमन को लेकर सुरक्षा-व्यवस्था के विशेष इंतजाम किए गए।  
– मधुरवाणी ग्रुप के कलाकारों ने स्वागत गीत प्रस्तुत किया।  
– श्रावणी डांस अकादमी के कलाकारों ने स्वागत गीत प्रस्तुत किया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *