सभी आध्यात्मिक जगत की सबसे बेहतरीन ख़बरें
ब्रेकिंग
पिताश्री ब्रह्मा बाबा का 54वां पुण्य स्मृति आज, देशभर से पहुंचे 20 हजार लोग राजयोग और आध्यात्म शक्ति ने मुझे अंधकारमय जीवन से बाहर निकाला भौतिक विकास का सुख चाहिए तो आध्यात्मिक विकास भी करना होगा राष्ट्रपति के आगमन को लेकर सज-धजकर तैयार हुआ शांतिवन राजयोगी किड्स विंटर कॉर्निवाल में बच्चों ने दिखाई प्रतिभा बेहतर सुविधायें उपलब्ध कराने के लिए कटिबद्ध रहेगा इंडियन बैंक बच्चों में प्रतिभाओं को निखारने के साथ नैतिक मूल्यों का भी विकास करें
बच्चों में प्रतिभाओं को निखारने के साथ नैतिक मूल्यों का भी विकास करें - Shiv Amantran | Brahma Kumaris
बच्चों में प्रतिभाओं को निखारने के साथ नैतिक मूल्यों का भी विकास करें

बच्चों में प्रतिभाओं को निखारने के साथ नैतिक मूल्यों का भी विकास करें

मुख्य समाचार
  • विंटर कार्निवाल में जुटे देशभर से एक हजार बच्चे, पांच दिवसीय होगा आयोजन

शिव आमंत्रण, आबू रोड/राजस्थान। ब्रह्माकुमारीज संस्थान के मानसरोवर में इन दिनों नौनिहालों का जमघट लगा है। ये नन्हें मुन्हें बच्चे सर्दी की छुटिटयां मनाने नहीं बल्कि अपने जीवन में सर्वागिण विकास के लिए इस कार्यक्रम में भाग लेने पहुंचे हुए है। सात दिवसीय विन्टर कार्निवाल में आये बच्चों को सम्बोधित करते हुए षिक्षा प्रभाग के अध्य़क्ष बीके मृत्युंजय ने कहा कि आज के दौर में बच्चों के अंदर संस्कार भरना जरुरी होता है। ये बच्चे ही आने वाले नये भारत की तस्वीर पेष करेगे।
उन्होंने कहा कि आज कल की युवा पीढ़ी कई तरह की चुनौतियों से गुजर रही है। ऐसे में जरूरी हो जाता है कि हम उनकी संभाल करें उनका ख्याल रखें। इसमें माता पिता की भूमिका बहुत महत्वपूर्ण है। इसके लिए इनके बचपन को संवारने का प्रयास करना चाहिए। ब्रह्माकुमारीज संस्थान में नन्हें मुन्हें बच्चों को सर्वागिण विकास के साथ-साथ राजयोग ध्यान और नैतिक मूल्यों के लिए भी प्रेरित किया जाता है।

कार्यक्रम में उपस्थित बच्चे

कार्यक्रम में दिल्ली से आयी मशहूर आर्टिस्ट संगीता राज ने कहा कि जैसे हम किसी कला के लिए बड़े ध्यान से दिनरात मेहनत कर एक चित्र तैयार होता है। उसी तरह से इन बच्चों पर दिन रात मेहनत करने की जरुरत है। ताकि वे एक श्रेष्ठ और सुन्दर इंसान बन सके। उनके अन्दर मूल्यों को भी ऐसे ही गढ़ना चाहिए। जैसे कि हम कला के माध्यम से रंग भरते है। महिला प्रभाग की राष्ट्रीय संयोजिका बीके डॉ सविता ने कहा कि बच्चे दिल के सच्चे होते हैं। जो उनके दिल पर इस समय लिख दिया जायेगा वे हमेश   अमिट हो जाता है। वे ही उनके जीवन का हिस्सा हो जाता है।
कार्यक्रम में  शिक्षा प्रभाग की मुख्यालय संयोजिका बीके  शिविका  तथा बीके नेहा ने कहा कि हम भी जब बच्चे थे तब इस तरह के कार्यक्रमों में आते थे। इससे ही हमारे श्रेष्ठ जीवन की नींव पड़ी। आज के बच्चे कल के भविष्य है। इनपर बहुत ध्यान देने की जरुरत है। इन सात दिनों में बच्चों को कई प्रकार की गतिविधियां करायी जायेंगी। जिससे उनका सर्वागिण विकास हो सके।
इस अवसर पर अजमेर से आयी बीके योगिनी, जयपुर से आयी बीके एकता, बीके राजीव समेत कई लोगों ने अपने अपने विचार व्यक्त किये।
पांच दिन तक अलग अलग गतिविधियांः इस विन्टर कार्निवाल में पांच दिनों तक अलग अलग गतिविधयां करायी जायेगी। जिसमें खेलकूद, सांस्कृतिक प्रतियोगिता, वौद्धिक प्रतियोगिता, वाक प्रतियांगिता, जलेबी रेस, सेक रेस तथा राजयोग ध्यान प्रतियोगिताओं का भी आयोजन किया जायेगा।
बच्चों को दो ग्रुपः इस कार्निवाल में आये बच्चों को दो ग्रुपों में बांटा गया है। 11 से 14 साल तक एंजिल तथा 14 से 16 साल तक के बच्चों को डायमंड ग्रुप में बांटा गया है। जिसमें अलग अलग गुप के बच्चों के लिए अलग अलग प्रतियोगिता आयोजित की जायेगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *