सभी आध्यात्मिक जगत की सबसे बेहतरीन ख़बरें
ब्रेकिंग
दादी जानकी पार्क का मॉडल पूरे जिले में बनाएंगे अपनी रिसर्च में इनोवेशन करें, माइंड में क्लीयर हो एरिया ब्रह्माकुमारीज के प्रयासों से बदली ओरिया ग्राम की सूरत मूल्यनिष्ठ शिक्षा से ही भारत को विश्वगुरु बनाने की राह होगी आसान पीएचडी के लिए स्टूडेंट सीख रहे यौगिक साइंस की बारीकियां जब भी ब्रह्माकुमारीज में आता हूं तो एक नई आध्यात्मिक अनुभूति होती है राष्ट्र विकास, सामाजिक परिवर्तन में मीडिया निभाये अहम भूमिका
योग से भाग जाएंगे सब रोग - Shiv Amantran | Brahma Kumaris
योग से भाग जाएंगे सब रोग

योग से भाग जाएंगे सब रोग

सम्पादकीय

पिछले कुछ वर्षों में योग के प्रति लोगों का रुझाान बढ़ा है। अब तो लोगों में इतनी जारूकता आ गई है कि बच्चों से लेकर बूढ़े तक हर कोई अपनी दिनचर्या में योग को शामिल कर लिया है। योग और राजयोग से तन और मन की बीमारी ठीक होने में मदद करती है। तन और मन के स्वास्थ्य के लिए जरूरी है कि हम प्रात: काल या जब भी समय मिले अपने लिए अवश्य थोड़ा टाइम निकालें। जैसे परिवार और अपने कार्य व्यवहार के लिए शक्ति और सामर्थ्य की जरूरत होती है, वैसे ही मन और तन को चलाने के लिए शक्ति की जरूरत होती है। इससे ही हमारे जीवन में सामंजस्य बना रहता है। यही कारण है कि अब वैज्ञानिक, चिकित्सक और मनोचिकित्सक भी कहने लगे है कि सर्वांगीण स्वास्थ्य के लिए अध्यात्म के साथ राजयोग ध्यान जरूरी है। इससे ही हमारी स्थिति उच्च रह सकती है। परिवार और कार्य व्यवहार को सुचारू रूप से चलाने के लिए भी जरूरी है कि हम सकारात्मकता को अपने जीवन में अपनाएं और जीवन को स्वर्ग बनाएं। परिवार, बच्चों और कार्य स्थल पर सुस्ती , आलस्य को दूर करने और हमेशा तरोताजा रहने के लिए भी जरूरी है कि हम शारीरिक व्यायाम प्रतिदिन करें। साथ ही मन को सशक्त बनाने और अन्तर्मन में ऊर्जा भरने के लिए अध्यात्म और राजयोग का सहारा लें। इससे आपके अन्दर एक असीम ऊर्जा का एहसास होगा। साथ ही आपके कार्य व्यवहार में एक नयापन आएगा। तनाव और विपरीत परिस्थितियों में दुख और मान-अपमान से ऊपर उठने के लिए अपने जीवन को सुदृढ़ करने में मदद मिलेगी। यही योग दिवस का संदेश है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *