सभी आध्यात्मिक जगत की सबसे बेहतरीन ख़बरें
ब्रेकिंग
खुश होकर और प्रभु की याद में करें भोजन: बीके बाला बहन परमात्मा की छत्रछाया में रहें तोे सदा हल्के रहेंगे: बीके बृजमोहन भाई ईशु दादी का जीवन समर्पण भाव और ईमानदारी की मिसाल था ब्रह्माकुमारीज़ जैसा समर्पण भाव दुनिया में आ जाए तो स्वर्ग बन जाए: मुख्यमंत्री दिव्यांग बच्चों को सिखाई राजयोग मेडिटेशन की विधि आप सभी परमात्मा के घर में सेवा साथी हैं थॉट लैब से कर रहे सकारात्मक संकल्पों का सृजन
यशोशिखर पर पहुंचा हर आदमी दिखाई देगा योग करते - Shiv Amantran | Brahma Kumaris
यशोशिखर पर पहुंचा हर आदमी दिखाई देगा  योग करते

यशोशिखर पर पहुंचा हर आदमी दिखाई देगा योग करते

दिल्ली राज्य समाचार

ब्रह्माकुमारीज के बिजनेस इ कांन्फ्रे न्स में व्यक्त विचार

शिव आमंत्रण, दिल्ली । स्पिरिचुअल सोल्यूशंस फॉर स्टेबिलिटी एंड सक्सेस इन बिजनेस विषय के तहत दिल्ली के हरिनगर सेवाकेन्द्र द्वारा इ कांन्फ्रे न्स आयोजित की गई। इस कांफे्रन्स में मुख्य अतिथियों में केन्या से प्रख्यात उद्योगपति निज़ार जुमा, जालंदर से डॉ. हरभजन बरिच, लार्सन एंड टूब्रो के बिजनस हेड प्रदीप बजाज, एमजी मोटर्स के नेशनल सेल्स हेड राकेश सिडाना और सियाराम के चेयरमैन रमेश पोद्दार ने अपने विचार व्यक्त किए।
निजार जुमा ने कहा, हमको अच्छी तरह से जीने के लिए तीन चीजे याद रखनी पडेगी। पहला आपको ब्रीज खेलने की आदत होनी चाहिए वो पैसों के साथ नही, दूसरा गोल्फ – वहां भी वही बात यूज होती है और तीसरा है मेडिटेशन। हर एक यशोशिखर पर पहुंचा हुआ आदमी आप गुगल पर जाकर देखेंगे तो कोई ना कोई प्रकार से योग करता हुआ दिखाई देगा।
प्रदीप बजाज ने कहा, हमारी जनरेशन ने आजतक इस तरह की आरोग्य और आर्थिक आपातकाल की इमेर्जन्सी नही देखी थी। इसलिए इससे निजात पाने के लिए एक दूसरे के साथ अपने अनुभव शेअर करे और आगे बढ़े।
रमेश पोद्दार ने कहा, जब हमारे बहुत सारे लोग डिप्रेशन में चले गये थे या डर के भाव में आ गये थे तो ब्रह्माकुमारी संस्थान, जिनसे मेरा बहुत सालों से परिचय है लोगों के जिंदगी को सुधारने के लिए और उनके जीवन में खुशियां लाने के लिए बहुत सारे प्रोग्राम करते है लेकिन खास करके ये पांच छे महिनों में उन्होने हमारी इमोशनल इम्युनिटी को ठीक करने के लिए जितना काम किया है वह इतना सराहनीय है और उसका इतना लाभ हमारी जनता को, हम सबको मिला है जिसको मै शब्दों में वर्णन नही कर सकता।
डॉ. हरभजन बरिच ने कहा, पहली बात है मेरी सोच और फिर दूसरी बात है मेरी आर्गेनायजेशन के जो लोग है उनको साथ लेकर चलते है, उनको भी पॉजिटीव बनाते है तो उससे वर्क एनर्जी भी बढ़ती है और खुशी भी आती है।
व्यापार की चुनौतियों को सहज पार करने के लिए आध्यात्मिक शक्तियों की आवश्यकता होती है जो कि व्यक्ति के आंतरिक स्वरूप में निहित हैं जिसको हम राजयोग के माध्यम से उजागर कर सकते हैं इसकी जानकारी आगे गरीनगर सेवाकेन्द्रों की प्रभारी बीके शुक्ला, हैदराबाद से वरिष्ठ राजयोग शिक्षिका बीके राधिका एवं मुख्यालय से वरिष्ठ राजयोग प्रशिक्षक बीके सूरज ने उद्बोधित किया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *