सभी आध्यात्मिक जगत की सबसे बेहतरीन ख़बरें
ब्रेकिंग
परमात्मा की छत्रछाया में रहें तोे सदा हल्के रहेंगे: बीके बृजमोहन भाई ईशु दादी का जीवन समर्पण भाव और ईमानदारी की मिसाल था ब्रह्माकुमारीज़ जैसा समर्पण भाव दुनिया में आ जाए तो स्वर्ग बन जाए: मुख्यमंत्री दिव्यांग बच्चों को सिखाई राजयोग मेडिटेशन की विधि आप सभी परमात्मा के घर में सेवा साथी हैं थॉट लैब से कर रहे सकारात्मक संकल्पों का सृजन नकारात्मक विचारों से मन की सुरक्षा करना बहुत जरूरी: बीके सुदेश दीदी
सकारात्मक बदलाव का वर्ष थीम पर सालभर होंगे देश-विदेश में कार्यक्रम - Shiv Amantran | Brahma Kumaris
सकारात्मक बदलाव का वर्ष थीम पर सालभर होंगे देश-विदेश में कार्यक्रम

सकारात्मक बदलाव का वर्ष थीम पर सालभर होंगे देश-विदेश में कार्यक्रम

मुख्य समाचार
  • राष्ट्रीय कार्यकारिणी की सात दिवसीय एजेंडा मीटिंग का समापन
  • देश-विदेश से दो हजार से अधिक कार्यकारिणी सदस्यों ने लिया भाग

फैक्ट-

  1. 2000 वरिष्ठ पदाधिकारियों ने देश-विदेश से लिया भाग
  2. 75 सूत्रीय एजेंडे के तहत हुआ विचार-विमर्श
  3. 07 दिन चली बैठक में सेवाओं के लिए किया मंथन-चिंतन
  4. 20 प्रभागों के पदाधिकारियों ने भी लिया भाग
  5. 02 सत्रों में आयोजित की गई बैठक

शिव आमंत्रण,आबू रोड/राजस्थान। भारतीय पुरातन संस्कृति आध्यात्म और राजयोग मेडिटेशन को जन-जन तक पहुंचाने के लिए ब्रह्माकुमारीज संस्थान द्वारा इस वर्ष सकारात्मक बदलाव का वर्ष थीम (पॉजीटिव चैंज ऑफ द इयर) तय की गई है। इस थीम के तहत संस्थान के भारतवर्ष सहित विश्व के सभी 140 देशों के सेवाकेंद्रों पर कार्यक्रम, सभा, सम्मेलन और समारोह आयोजित किए जाएंगे।
अंतरराष्ट्रीय मुख्यालय शांतिवन के कॉन्फ्रेंस हॉल में चल रही सात दिवसीय राष्ट्रीय कार्यकारिणी की वार्षिक बैठक का समापन शनिवार को हो गया। वार्षिक बैठक में भाग लेने के लिए संस्थान के सभी 20 प्रभागों के अध्यक्ष, उपाध्यक्ष, नेशनल को-ऑर्डिनेटर, मुख्यालय संयोजक सहित देश के अलग-अलग रिट्रीट सेंटर्स की डायरेक्टर, विदेशों में ब्रह्माकुमारीज का प्रतिनिधित्व कर रहीं वरिष्ठ ब्रह्माकुमारी बहनों ने भाग लिया। दो सत्रों में चली बैठक में सभी प्रभागों के पदाधिकारियों ने अपने-अपने प्रभाग के तहत सालभर में हुई सेवाओं की जानकारी वीडियो प्रजेंटेशन के माध्यम से दी। साथ ही भविष्य की कार्ययोजना को विस्तार से बताया। साथ ही वर्ष 2022 में आजादी के अमृत महोत्सव से स्वर्णिम भारत की ओर एक वर्षीय देशव्यापी अभियान के तहत हुई सेवाओं की जानकारी दी गई।
बैठक की अध्यक्षता कर रहे कार्यकारी सचिव बीके डॉ. मृत्युंजय भाई ने बताया कि वर्ष 2022 में ब्रह्माकुमारीज के देशभर में स्थित पांच हजार सेवाकेंद्रों के माध्यम से सालभर में 55 हजार कार्यक्रम आयोजित किए गए। इनके माध्यम से तीन करोड़ लोगों तक भारत की पुरातन संस्कृति आध्यात्म, राजयोग मेडिटेशन, देशभक्ति, यौगिक खेती, पर्यावरण संरक्षण, महिला सशक्तिकरण और नशामुक्ति आदि का संदेश दिया गया। इनमें सबसे ज्यादा रिकार्ड कार्यक्रम धार्मिक प्रभाग, मेडिकल प्रभाग और कृषि एवं ग्राम विकास प्रभाग द्वारा आयोजित किए गए।

निरंतर चलता रहेगा नशामुक्ति अभियान-
बैठक में सर्वसहमति से तय किया गया कि संस्थान की ओर से निरंतर नशामुक्त भारत अभियान चलाया जाएगा। क्योंकि आज की युवा पीढ़ी को नशे के चंगुल से बचाए रखना सबसे बड़ी चुनौती है। बात दें कि हाल ही में संस्थान के मेडिकल विंग और सामाजिक न्याय और अधिकारिता विभाग द्वारा एमओयू साइन किया गया है। इसके तहत विंग द्वारा देशभर में नशामुक्ति के लिए कार्यक्रम आयोजित कर जनजागरूकता फैलाई जाएगी।

जल जन अभियान को देंगे गति-
इसके अलावा ब्रह्माकुमारीज और जल शक्ति मंत्रालय द्वारा चलाए जा रहे जल जन अभियान को गति देने के लिए सभी सेंटर मिलकर प्रयास करेंगे। इसके तहत कार्यक्रम आयोजित कर लोगों को जल संरक्षण के लिए जागरूक किया जाएगा। साथ ही बावड़ी और जलाशयों के जीर्णोद्धार के प्रयास किए जाएंगे। खासकर उन क्षेत्रों में विशेष प्रयास किए जाएंगे जो पहले से ही जल अभावग्रस्त क्षेत्रों में आते हैं।

यौगिक खेती को बनाएंगे जन-जन की खेती-
वर्ष 2022 में संस्थान के कृषि एवं ग्राम विकास प्रभाग की ओर से रिकार्ड 9500 से अधिक कार्यक्रम आयोजित किए गए। लाखों किसानों को यौगिक खेती, प्राकृतिक खेती और नशामुक्ति का संदेश दिया गया। प्रभाग की ओर से तय किया गया कि वर्ष 2023 में ज्यादा से ज्यादा किसानों को यौगिक खेती से जोडऩे का प्रयास किया जाएगा ताकि उनका जीवनयावन सुधर सके और हम रासायनिक खेती से उत्पन्न अनाज के दुष्प्रभावों से बच सकें।

मूल्य शिक्षा, महिला सशक्तिकरण, युवा जागृति पर भी रहेगा जोर-
वार्षिक बैठक में तय किया गया कि ज्यादा से ज्यादा स्कूल-कॉलेजों को कवर किया जाएगा। ताकि विद्यार्थियों को सकारात्मक बदलाव के लिए प्रेरित करके उन्हें मेमोरी पावर, बिल पावर, माइंड पावर की शक्ति से रूबरू कराकर लक्ष्य निर्धारण के लिए तैयार कर सकें। साथ ही कॉलेज और यूनिवर्सिटी में राजयोगा थॉट लैब स्थापित की जाएंगी। जिनकी मकसद है कि विद्यार्थियों की विचारधारा को सकारात्मक बनाना और जीवन के प्रति सकारात्मक दृष्टिकोण पैदा करना। इसके अलावा सभी राष्ट्रीय पर्व, त्योहार व जयंतियों पर भी कार्यक्रम आयोजित किए जाएंगे।

इन कार्यों पर भी रहेगा जोर-
बैठक में तय किया गया कि हर साल की तरह इस साल भी पौधारोपण, प्लांटेशन, पर्यावरण संरक्षण, मृदा संरक्षण, किसान दिवस, बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ, स्वच्छ भारत मिशन, देशभक्ति, सर्वधर्म सम्मेलन के साथ वैश्विक शांति, एकता, सौहाद्र्र और भार्ईचारा बढ़ाने के लिए सामाजिक सेवाओं को गति दी जाएगी।

बैठक में उपस्थित देश-विदेश से आए पदाधिकारी।

इनकी मौजूदगी में हुई बैठक-
बैठक में विशेष रूप से मुख्य प्रशासिका राजयोगिनी दादी रतनमोहिनी, अतिरिक्त मुख्य प्रशासिका राजयोगिनी बीके मोहिनी दीदी, राजयोगिनी बीके जयन्ती दीदी, संयुक्त मुख्य प्रशासिका राजयोगिनी बीके मुन्नी दीदी, राजयोगिनी बीके डॉ. निर्मला दीदी, राजयोगिनी बीके संतोष दीदी, राजयोगिनी बीके शशि दीदी, महासचिव राजयोगी बीके निर्वैर भाई, अतिरिक्त महासचिव बीके बृजमोहन भाई, मल्टी मीडिया प्रमुख बीके करुणा भाई तथा कार्यकारी सचिव बीके मृत्युंजय की उपस्थिति में किया गया।

One comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *