सभी आध्यात्मिक जगत की सबसे बेहतरीन ख़बरें
ब्रेकिंग
सही शिक्षा, सही सोच और सही ज्ञान ही हमें ताकत दे सकता है कला के जादू से जीवंत हो उठी रचनाएं, सम्मान से बढ़ाया कलाकारों का मान कलाकार कैनवास पर उकेर रहे मन के भाव कारगिल युद्ध में परमात्मा की याद से विजय पाई: ब्रिगेडियर हरवीर सिंह भारत और नेपाल में भाईचारा का नाता है: नेपाल महापौर विष्णु विशाल राजनेताओं का जीवन आध्यात्मिक होगा तो भारत समृद्ध बनेगा सेना जितनी सशक्त रहेगी हम उतनी शांति से रहेंगे: नौसेना उपप्रमुख घोरमडे
ब्रह्माकुमारीज का विरेन्द्र देव दीक्षित से कोई सम्बन्ध नहीं - Shiv Amantran | Brahma Kumaris
ब्रह्माकुमारीज का विरेन्द्र देव दीक्षित से कोई सम्बन्ध नहीं

ब्रह्माकुमारीज का विरेन्द्र देव दीक्षित से कोई सम्बन्ध नहीं

सच क्या है

शिव आमंत्रण। समय प्रति समय विरेन्द्र देव दीक्षित नामक व्यक्ति द्वारा संचालित संस्था पूर्व में आध्यात्मिक विश्वविद्यालय लिखती थी लेकिन अब उसपर भी दिल्ली हाईकोर्ट ने भी रोक लगा दी। यही नहीं जितने भी बोर्ड लगाये गये थे सभी उतारने का आदेश भी दिया गया था। तब से सिर्फ यह विरेन्द्र देव दीक्षित का आश्रम माना जाता है।
ब्रह्माकुमारीज संस्थान से कोई सम्बन्ध नहींः विरेन्द्र देव दीक्षित द्वारा संचालित संस्थान के लोग ब्रह्माकुमारीज संस्थान से मिलती जुलती साहित्य, बैज और पोस्टर लगाते हुए मिल जायेंगे। ये लोग आम लोगों को भ्रमित करने की कोशिश करते है कि हम लोग ब्रह्माकुमारीज संस्थान से जुड़े है। लेकिन यह सत्य नहीं है। ब्रह्माकुमारीज संस्थान का विरेन्द्र देव दीक्षित द्वारा संचालित संस्था से कोई सम्बन्ध नहीं है। इसलिए विरेन्द्र दीक्षित द्वारा चलायी जा रही गतिविधियों को कई बार प्रशासनिक तथा न्यायपालिका के तौर पर पाबंदिया भी लगायी जाती रही है।
विरेन्द्र दीक्षित का मुख्यालय फर्रुखाबादः विरेन्द्र दीक्षित द्वारा संचालित संस्थान का मुख्यालय फर्रुखाबाद के सिकदर बाग में है। जबकि प्रजापिता ब्रह्माकुमारी ईश्वरीय विश्व विद्यालय का अन्तर्राष्ट्रीय मुख्यालय माउण्ट आबू राजस्थान में है। इसलिए किसी भी भ्रम में ना रहें।
कई बार जेल जा चुका है विरेन्द्र दीक्षि: बिजली चोरी तथा अन्य संदिग्ध गतिविधियों के कारण विरेन्द्र दीक्षित जेल की हवा भी खा चुका है। इसके साथ ही ब्रह्माकुमारीज संस्थान ने भी कई बार मुकदमा दर्ज कराया था कि आम लोगों को आध्यात्मिक ज्ञान के नाम तथा ब्रह्माकुमारीज संस्थान का दुष्प्रचार कर भ्रमित करता रहता है। लेकिन बचने में कामयाब रहा है।  

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

खबरें और भी