सभी आध्यात्मिक जगत की सबसे बेहतरीन ख़बरें
ब्रेकिंग
सही शिक्षा, सही सोच और सही ज्ञान ही हमें ताकत दे सकता है कला के जादू से जीवंत हो उठी रचनाएं, सम्मान से बढ़ाया कलाकारों का मान कलाकार कैनवास पर उकेर रहे मन के भाव कारगिल युद्ध में परमात्मा की याद से विजय पाई: ब्रिगेडियर हरवीर सिंह भारत और नेपाल में भाईचारा का नाता है: नेपाल महापौर विष्णु विशाल राजनेताओं का जीवन आध्यात्मिक होगा तो भारत समृद्ध बनेगा सेना जितनी सशक्त रहेगी हम उतनी शांति से रहेंगे: नौसेना उपप्रमुख घोरमडे
चुप रहने का महत्व – मौन एक साधना है, तप है - Shiv Amantran | Brahma Kumaris
चुप रहने का महत्व – मौन एक साधना है, तप है

चुप रहने का महत्व – मौन एक साधना है, तप है

शिक्षा

एक राजा के घर एक राजकुमार ने जन्म लिया। राजकुमार स्वभाव से कम बोलते थे। जब वह युवा हुए तो बचपन की अपनी उसी आदत के मुताबिक मौन ही रहता था। राजा अपने राजकुमार की चुप्पी से परेशान रहते थे कि आखिर ये बोलता क्यों नहीं है। राजा ने कई ज्योतिषियों, साधु-महात्माओं एवं चिकित्सकों को उन्हें दिखाया परन्तु कोई हल नहीं निकला। संतों ने कहा कि ऐसा लगता कि पिछले जन्म में ये राजकुमार कोई साधु थे, जिससे इनके संस्कार इस जन्म में भी साधुओं के मौन व्रत जैसे हैं। राजा ऐसी बातों से संतुष्ट नहीं हुए। एक दिन राजकुमार को राजा के मंत्री बगीचे में टहला रहे थे। उसी समय एक कौवा पेड़ की डाल पर बैठ कर काव- काव करने लगा। मंत्री ने सोचा कि कौवे की आवाज से राजकुमार परेशान होंगे इसलिए मंत्री ने कौवे को गोली मार दी। गोली लगते ही कौवा जमीन पर गिर गया। तब राजकुमार कौवे के पास जा कर बोले कि यदि तुम नहीं बोले होते तो नहीं मारे जाते। इतना सुनकर मंत्री बड़ा खुश हुआ कि राजकुमार आज बोले हैं और तत्काल ही राजा के पास ये खबर पहुंचा दी। राजा भी बहुत खुश हुआ और मंत्री को खूब ढेर-सारा उपहार दिया। कई दिन बीत जाने के बाद भी राजकुमार चुप ही रहते थे। राजा को मंत्री की बात पर संदेह हो गया और गुस्सा कर राजा ने मंत्री को फांसी पर लटकाने का आदेश दिया। इतना सुनकर मंत्री दौड़ते हुए राजकुमार के पास आया और कहा कि उस दिन तो आप बोले थे परन्तु अब नहीं बोलते हैं। मैं तो कुछ देर में राजा के आदेश से फांसी पर लटका दिया जाऊंगा। मंत्री की बात सुनकर राजकुमार बोले कि यदि तुम भी नहीं बोले होते तो आज तुम्हें भी फांसी का आदेश नहीं होता। बोलना ही बंधन है।

शिक्षा :- जब भी बोलो उचित और सत्य बोलो अन्यथा मौन रहो। मौन एक साधना है, तप है। वर्तमान परिस्थितियों में हम देखें तो जीवन की कई सारी समस्याओं को समाधान हम मौन रहकर निकाल सकते हैं। कई बार तो समस्या हमारे ज्यादा या कटु बोलने के कारण ही उत्पन्न हो जाती है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *