सभी आध्यात्मिक जगत की सबसे बेहतरीन ख़बरें
ब्रेकिंग
सही शिक्षा, सही सोच और सही ज्ञान ही हमें ताकत दे सकता है कला के जादू से जीवंत हो उठी रचनाएं, सम्मान से बढ़ाया कलाकारों का मान कलाकार कैनवास पर उकेर रहे मन के भाव कारगिल युद्ध में परमात्मा की याद से विजय पाई: ब्रिगेडियर हरवीर सिंह भारत और नेपाल में भाईचारा का नाता है: नेपाल महापौर विष्णु विशाल राजनेताओं का जीवन आध्यात्मिक होगा तो भारत समृद्ध बनेगा सेना जितनी सशक्त रहेगी हम उतनी शांति से रहेंगे: नौसेना उपप्रमुख घोरमडे
कोरोना के लिए राजयोग है कारगर - Shiv Amantran | Brahma Kumaris
कोरोना के लिए राजयोग है कारगर

कोरोना के लिए राजयोग है कारगर

छत्तीसगढ़ राज्य समाचार

कैबीनेट मंत्री टी. एस. सिंहदेव के उद्गार

शिव आमंत्रण, अम्बिकापुर। मन का संतुलन बनाये रखना कोरोना के इलाज का बहुत अहम हिस्सा है। कोरोना ग्रसित व्यक्तियों के अन्दर डर का भाव भी समाया हुआ है। यह डर उनमें मानसिक पीड़ा उत्पन्न करती है और इस परिस्थिति में मन का संतुलन बनाना, योग करना ये बहुत कारगर उपाय है। योग या राजयोग विधि के द्वारा हम जो मानसिक शांति प्राप्त करते है वो मन की शक्ति तन को भी शक्तिशाली बना देती है। इसी योग विधि द्वारा इस समस्या को बहुत हद तक काबू किया जा सकता हैं। उक्त विचार छत्तीसगढ़ के स्वास्थ्य एवं पंचायत विभाग कैबीनेट मंत्री टी. एस. सिंहदेव ने अम्बिकापुर सेवाकेंद्र पर व्यक्त किये।

कहा, वर्तमान समय चल रहे इस कोरोना महामारी के दौर पर हर व्यक्ति चितिंत है। जिस रफ्तार से कार्य व्यवहार चलना चाहिये वो नहीं चल पा रहा है। इन सभी समस्या के समाधान के लिये राजयोग की क्या भूमिका है इस बात को स्पष्ट करते हुये उन्होने कहा, कि पूरे छत्तीसगढ में मृतजनों की संख्या करीब 1& हजार 5 सौ पहुँच रही हैं। यह ऐसा वातावरण हैं जिसमें अनिश्चितता, भय बढ़ता जा रहा है। ऐसे समय मे मन का संतुलन बनाये रखना इस बीमारी का एक अहम हिस्सा हैै। उनके मन मे ये बात है कि इसका कोई इलाज नहीं हैं। इस परिस्थिति में मन का संतुलन बनाना, योग करना ये बहुत कारगर उपाय है और योग या राजयोग विधि के द्वारा हम जो मानसिक शांति प्राप्त करते है वो मन की शक्ति तन को भी शक्तिशाली बना देती है। इसी योग विधि द्वारा इस समस्या को बहुत हद तक काबू किया जा सकता हैं।
सरगुजा संभाग की सेवाकेन्द्र संचालिका बीके विद्या ने बताया कि मानसिक तनाव, डर ने कोरोना को और भी ’यादा बढ़ा दिया है। लोग बीमारी से कम, भय से ’यादा ग्रसित हैं। राजयोग के निरंतर अभ्यास से हमारे अंदर एक सकारात्मक भाव उत्पन्न होता है और सकारात्मक ऊर्जा में हीलिंग एनर्जी होती हैं। जिससे किसी भी तरह के मन के रोग या तन के रोग से काफी हद तक मुक्ति पायी जा सकती हैं। हम परमात्मा की छत्रछाया में स्वयं को सुरक्षित महसूस करते हैं और दूसरों को भी मानसिक बल दे सकते हैं।
इस मौके पर बीके विद्या श्री. सिंह देव को शॉल एवं श्रीफल द्वारा सम्मानीत किया एवं ईश्वरीय सौगात भेट की। साथ- साथ उनके साथियों का भी सम्मान किया गया एवं सभी को ईश्वरीय सौगात भेंट की गई। इसके अतिरिक्त मंत्री टी.एस. सिंहदेव सहित सभी ने ब्रह्माभोजन स्वीकार किया। इस अवसर पर निजी सचिव श्री. विनोद, प्रदेश कांग्रेस उपाध्यक्ष जे.पी. श्रीवास्तव, प्रदेश कांग्रेस के महासचिव द्वितेन्द्र मिश्रा सहित गणमान्य लोग उपस्थित थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published.