सभी आध्यात्मिक जगत की सबसे बेहतरीन ख़बरें
ब्रेकिंग
खुश होकर और प्रभु की याद में करें भोजन: बीके बाला बहन परमात्मा की छत्रछाया में रहें तोे सदा हल्के रहेंगे: बीके बृजमोहन भाई ईशु दादी का जीवन समर्पण भाव और ईमानदारी की मिसाल था ब्रह्माकुमारीज़ जैसा समर्पण भाव दुनिया में आ जाए तो स्वर्ग बन जाए: मुख्यमंत्री दिव्यांग बच्चों को सिखाई राजयोग मेडिटेशन की विधि आप सभी परमात्मा के घर में सेवा साथी हैं थॉट लैब से कर रहे सकारात्मक संकल्पों का सृजन
जागृति लाकर लोगों की लाइफ स्टाइल में परिवर्तन लाना जरूरी: एसडीएम गोविंद सिंह - Shiv Amantran | Brahma Kumaris
जागृति लाकर लोगों की लाइफ स्टाइल में परिवर्तन लाना जरूरी: एसडीएम गोविंद सिंह

जागृति लाकर लोगों की लाइफ स्टाइल में परिवर्तन लाना जरूरी: एसडीएम गोविंद सिंह

मुख्य समाचार

– विश्व पृथ्वी दिवस पर कार्यक्रम आयोजित

शिव आमंत्रण,आबू रोड/राजस्थान। वर्तमान समय में बहुत प्रदूषण तेजी से बढ़ रहा है। यह हम सभी के लिए चिंता का विषय है। ऐसी स्थिति में यदि पृथ्वी को संरक्षित करना है, प्रदूषण से बचाना है तो लोगों की लाइफ स्टाइल में परिवर्तन जरूरी है। इसके लिए हमें ऐसे कार्यक्रम आयोजित कर लोगों में जन जागृति फैलाना होगा। तभी हम अपने आसपास के पर्यावरण और पृथ्वी को सुरक्षित, संरक्षित रख पाएंगे।
उक्त उद्गार आबू रोड एसडीएम गोविंद सिंह ने व्यक्त किए। मौका था शनिवार को विश्व पृथ्वी दिवस पर ब्रह्माकुमारीज संस्थान के शांतिवन परिसर में वैज्ञानिक, अभियंता एवं इंजीनियरिंग प्रभाग द्वारा चलाए जा रहे इनवेस्ट योवर प्लानेट (प्रेसर्व, प्रोटेक्ट, प्रमोट) कैपेंन की राष्ट्रीय लांचिंग की गई। उन्होंने कहा कि पर्यावरण संरक्षण के लिए समाज के प्रत्येक व्यक्ति को आगे आकर प्रयास करना होंगे। यह हम सभी की जिम्मेदारी है।
वैज्ञानिक, अभियंता एवं इंजीनियरिंग प्रभाग के राष्ट्रीय अध्यक्ष बीके मोहन सिंघल भाई ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा पर्यावरण के संरक्षण के लिए जी-20 प्रोग्राम चलाया जा रहा है। वसुधैव कुटुम्बकम की थीम पर चलाए जा रहे इस प्रोग्राम का मकसद वन अर्थ, वन फैमिली, वन फ्यूचर है। यह तभी हो सकता है जब हम अर्थ में इनवेस्ट करें।  हम अपनी प्रकृति के साथ पशु, पक्षी, पेड़-पौधे और प्रकृति के पांचों सभी को परिवार मानेंगे। कभी प्रकृति का दोहन नहीं करेंगे। जीवन को बचाना है तो पर्यावरण और पृथ्वी को बचाना होगा। हमारी संस्कृति की महानता है कि भारत को माता का दर्जा दिया गया है। हमारे यहां नदी, जल, जंगल को पूजने की, आदर की परंपरा रही है। प्रकृति में जिन चीजों ने हमें दिया है उन्हें हम कृतज्ञता के भाव से पूजते रहे हैं।

कार्यक्रम में मौजूद नागरिकगण।

संस्थान की संयुक्त मुख्य प्रशासिका बीके निर्मला दीदी ने कहा कि हम सभी को अब पर्यावरण बचाने के लिए गंभीर होने की जरूरत है। वरिष्ठ राजयोग शिक्षिका बीके नीलू दीदी ने कहा कि जीवन में राजयोग को शामिल करने से हमारे मन का प्रदूषण  दूर हो जाता है, जब मन स्वच्छ-सुंदर रहेगा तो हमारे कर्म भी स्वच्छ, सुंदर और सकारात्मक होंगे। प्रकृति संरक्षण की दिशा में होंगे। इस मौके पर बीके भारत भूषण ने भी अपने विचार व्यक्त किए। बीके डॉ. सविता बहन और बीके सुप्रिया बहन ने भी अपने विचार व्यक्त किए। इस मौके पर बड़ी संख्या में लोग मौजूद रहे। कार्यक्रम में नर्सिंग स्कूल की छात्राओं ने नुक्कड़ नाटक पेश कर पृथ्वी का महत्व बताते प्रस्तुति दी।
————————

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *