सभी आध्यात्मिक जगत की सबसे बेहतरीन ख़बरें
ब्रेकिंग
परमात्मा की छत्रछाया में रहें तोे सदा हल्के रहेंगे: बीके बृजमोहन भाई ईशु दादी का जीवन समर्पण भाव और ईमानदारी की मिसाल था ब्रह्माकुमारीज़ जैसा समर्पण भाव दुनिया में आ जाए तो स्वर्ग बन जाए: मुख्यमंत्री दिव्यांग बच्चों को सिखाई राजयोग मेडिटेशन की विधि आप सभी परमात्मा के घर में सेवा साथी हैं थॉट लैब से कर रहे सकारात्मक संकल्पों का सृजन नकारात्मक विचारों से मन की सुरक्षा करना बहुत जरूरी: बीके सुदेश दीदी
नारी के शक्ति का ही रूप है दुर्गा - Shiv Amantran | Brahma Kumaris
नारी के शक्ति का ही रूप है दुर्गा

नारी के शक्ति का ही रूप है दुर्गा

सम्पादकीय

देश और दुनिया में देवी-देवताओं के अलग-अलग रूप हैं, लेकिन एक जो चीज सबमें देखने को मिलती है वो है विधि-विधान और दिव्य कर्म। लगभग एक ही दायरे में आते हैं, इसलिए वह देवी कहलाती हैं। देवियों की पूजा के रूप में ही नवरात्र मनाया जाता है। वास्तव में शक्ति और साधना की देवी दुर्गा, काली और सरस्वती कहलाती है। आखिर इन देवियों में कौन सी ऐसी शक्ति प्राप्त है कि हर कोई अपनी मनोकामना लिए उनके शरण में चला जातायदि बारीकी से देखा जाए तो देवी का मतलब ही होता है दिव्य, अर्थात् दिव्य गुण वाली। दुर्गा का मतलब दुर्गुणों का नाश करने वाली। यदि नारी भी अपने अंदर आध्यात्मिक शक्ति का विकास कर ले तो वह गुणों की देवी है। इसलिए कहा गया है कि यत्र नार्यस्तु पूज्यते रमन्ते तत्र देवता। अर्थात् जहां नारी की पूजा होती है वहां देवी-देवता निवास करते हैं। मतलब साफ है कि जहां नारी की पूजा होती है, अर्थात् नारी देवी समान हो, दिव्य गुणों से भरपूर हो तो ही देवी है। वर्तमान समय में नारी को शक्ति स्वरूप देवी बन सबसे पहले खुद के अंदर से दुर्गुणों को समाप्त कर सद्गुणों को अपनाना चाहिए। यही शक्ति दुर्गा और काली कहलाएंगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *