सभी आध्यात्मिक जगत की सबसे बेहतरीन ख़बरें
ब्रेकिंग
सही शिक्षा, सही सोच और सही ज्ञान ही हमें ताकत दे सकता है कला के जादू से जीवंत हो उठी रचनाएं, सम्मान से बढ़ाया कलाकारों का मान कलाकार कैनवास पर उकेर रहे मन के भाव कारगिल युद्ध में परमात्मा की याद से विजय पाई: ब्रिगेडियर हरवीर सिंह भारत और नेपाल में भाईचारा का नाता है: नेपाल महापौर विष्णु विशाल राजनेताओं का जीवन आध्यात्मिक होगा तो भारत समृद्ध बनेगा सेना जितनी सशक्त रहेगी हम उतनी शांति से रहेंगे: नौसेना उपप्रमुख घोरमडे
विश्व अहिंसा दिवस पर ऑनलाइन वेबीनार - Shiv Amantran | Brahma Kumaris
विश्व अहिंसा दिवस पर ऑनलाइन वेबीनार

विश्व अहिंसा दिवस पर ऑनलाइन वेबीनार

राजस्थान राज्य समाचार

ब्रह्माकुमारी राजयोग केंद्र भीनमाल द्वारा 2 अक्टूबर गांधी जयंती तथा विश्व अहिंसा दिवस पर ऑनलाइन वेबीनार का आयोजन किया गया जिसका विषय था अहिंसा परमो धर्म। इस वेबीनार में उपस्थित थे

नोएडा से इलेक्ट्रॉनिक इंजीनियर मदन जी सिन्हा उन्होंने कहा गांधी जी सत्य और अहिंसा के पुजारी थे अहिंसा उनका अस्त्र था आज हिंसा बढ़ने का कारण है हमारी शिक्षा प्रणाली हमारी पुरानी शिक्षा वेदों शास्त्रों को फिर से आरंभ किया जाए तो हिंसा कम हो सकती है।

भीनमाल के वरिष्ठ पत्रकार मानिक मलजी भंडारी ने कहा जहां हिंसा होती है वहां सत्यानाश होता है अहिंसा रूपी शस्त्र द्वारा हम सारे विश्व पर कब्जा स्थापित कर सकते हैं जैन धर्म के लोग अहिंसा परमो धर्म मानते हैं दुनिया में कहीं पर भी अशांति हो तो वहां अहिंसा से शांति स्थापन कर  सकते है।

भारत विकास परिषद के संरक्षक ओम प्रकाश जी खेतावत ने कहा हिंसा से प्राप्त किया हुआ कार्य कभी भी स्थाई नहीं रहता है हमेशा भय में रहता है हिंसा के द्वारा प्राप्त लक्ष्य हमेशा स्थाई रहता है और वह हमें खुशी भी देता है।

मुंबई से जुड़े ब्रह्माकुमारी राजयोग केंद्र कांदिवली की मुख्य संचालिका ब्रह्माकुमारी राज बहनजी ने कहा हिंसा के मार्ग पर चलकर कोई भी मानव अपने जीवन में सुख शांति और समृद्धि की अपेक्षा नहीं कर सकता आज विश्व अहिंसा दिवस के उपलक्ष्य पर हम प्रण ले कि हम सब अहिंसा को अपने जीवन में अपनाएंगे और हमेशा यह याद रहे सुख दो सुख लो दुआ दो दुआ लो।    

ब्रह्माकुमारी राजयोग केंद्र भीनमाल की मुख्य संचालिका ब्रह्माकुमारी गीता बहन ने कहा कि आज दुनिया में जो भय चिंता का जो वातावरण बना हुआ है उसका कारण है अहिंसा गांधीजी चाहते थे हर देश हर देश का गांव आत्मनिर्भर हो स्वाभिमानी हो उन्होंने ऑनलाइन गांधीजी वेशभूषा प्रतियोगिता के विजेताओं के नाम घोषित किए उन्होंने बताया पहला इनाम  सीकर से जैनित सैनी, दूसरा इनाम सांचौर से हिमांशु सोनी तथा भीनमाल से युवराज शर्मा और तीसरा इनाम भीनमाल से ऋषभ गोदारा और विवेक सांखला को दिया जाता है। सांत्वना पर इनाम दिया गया अथर्व बोहरा, निकुल सोनी, ज्योति सोनी स्पेशल इनाम दिया गया राहुल मथुरा से यह वेबीनार जूम तथा यूट्यूब पर लाइव कराया गया। इस वेबिनार में प्रतिभागियों की वेषभूषा की फोटोज़ तथा वीडियो भी दिखाये गए। जिसकी सभी ने प्रशंसा की । 

Leave a Reply

Your email address will not be published.