सभी आध्यात्मिक जगत की सबसे बेहतरीन ख़बरें
ब्रेकिंग
सही शिक्षा, सही सोच और सही ज्ञान ही हमें ताकत दे सकता है कला के जादू से जीवंत हो उठी रचनाएं, सम्मान से बढ़ाया कलाकारों का मान कलाकार कैनवास पर उकेर रहे मन के भाव कारगिल युद्ध में परमात्मा की याद से विजय पाई: ब्रिगेडियर हरवीर सिंह भारत और नेपाल में भाईचारा का नाता है: नेपाल महापौर विष्णु विशाल राजनेताओं का जीवन आध्यात्मिक होगा तो भारत समृद्ध बनेगा सेना जितनी सशक्त रहेगी हम उतनी शांति से रहेंगे: नौसेना उपप्रमुख घोरमडे
राजनीति में आने का मकसद लोगों की सेवा करना - Shiv Amantran | Brahma Kumaris
राजनीति में आने का मकसद लोगों की सेवा करना

राजनीति में आने का मकसद लोगों की सेवा करना

मुख्य समाचार

त्रिपुरा की मुख्य सचेतक कल्यानी रॉय ने शांतिवन का किया अवलोकन, मेडिटेशन सत्र में लिया भाग

शिव आमंत्रण, आबू रोड, 9 जनवरी, निसं। मैं तो वैसे पेशे से वकील थी लेकिन मुझे हमेशा यह रहता था कि मैं लोगों की कैसे सेवा कर पाउं। इसलिए राजनीति को चुना और परमात्मा ने मुझे इसके जरिए लोगों की सेवा करने का अवसर मिला है। वास्तव में राजनीति में आने का हमारा मूल मकसद लोगों की सेवा करना है। उक्त विचार कल्यानी राव ने व्यक्त किये। वे ब्रह्माकुमारीज संस्थान के डायमंड हॉल से चल रहे आनलाईन आध्यात्मिक और ध्यान मेडिटेशन कार्यक्रम में बोल रही थी।
आगे उन्होंने कहा कि मुझे बहुत दिनों से यहॉं आने की इच्छा थी और यहॉं पहुंच गयी। राजयोग अध्यात्म का समावेश जीवन में बहुत जरूरी है। इससे हमे दूसरों के प्रति सद्भावना का विकास होता है। जीवन में सुख, शांति और आनन्द चाहिए तो इसके लिए प्रतिदिन की दिनचर्या में शामिल करना चाहिए। शिवबाबा का ध्यान करने और उनके बताये रास्ते पर चलने से पूरा जीवन बदल जाता है। यहॉं का परिवेश देखकर लगता है कि हर जगह और प्रत्येक स्थान पर ऐसा ही वातावरण बन जाये तो समाज का अलग ही रूप देखने को मिलेगा। इसलिए यहॉं के भाई बहनों का आभार व्यक्त करती हूॅँ । इसके पश्चात वे शांतिवन परिसर का अवलोकन किया। साथ ही विशाल रसोईघर देखकर अचम्भित हो गयी।
इस दौरान संस्थान के कार्यकारी सचिव बीके मृत्युंजय ने उन्हें मोमेंटो भेंटकर सम्मानित किया तथा वरिष्ठ राजयोग शिक्षिका बीके गीता ने शॉल ओढ़ाकर तथा ईश्वरीय प्रसाद भेंट कर राजयोग सीखने के लिए प्रेरित किया। इसके पश्चात वे पांडव भवन, ज्ञान सरोवर तथा पीस पार्क का अवलोकन कर उदयपुर के लिए रवाना हो गयी। इस अवसर पर ब्रह्माकुमारीज संस्था के पीआरओ बीके कोमल समेत कई लोग उपस्थित थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published.