सभी आध्यात्मिक जगत की सबसे बेहतरीन ख़बरें
ब्रेकिंग
सही शिक्षा, सही सोच और सही ज्ञान ही हमें ताकत दे सकता है कला के जादू से जीवंत हो उठी रचनाएं, सम्मान से बढ़ाया कलाकारों का मान कलाकार कैनवास पर उकेर रहे मन के भाव कारगिल युद्ध में परमात्मा की याद से विजय पाई: ब्रिगेडियर हरवीर सिंह भारत और नेपाल में भाईचारा का नाता है: नेपाल महापौर विष्णु विशाल राजनेताओं का जीवन आध्यात्मिक होगा तो भारत समृद्ध बनेगा सेना जितनी सशक्त रहेगी हम उतनी शांति से रहेंगे: नौसेना उपप्रमुख घोरमडे
रंग ला रही पर्यावरण संरक्षण की पहल, 50 हजार पौधे पेड़ बनने की ओर - Shiv Amantran | Brahma Kumaris
रंग ला रही पर्यावरण संरक्षण की पहल, 50 हजार पौधे पेड़ बनने की ओर

रंग ला रही पर्यावरण संरक्षण की पहल, 50 हजार पौधे पेड़ बनने की ओर

पर्यावरण राजस्थान राज्य समाचार राष्ट्रीय समाचार

सडक़ के किनारे, नदी नाले, बगीचों और खाली स्थानों पर रोपे गये थे पौधे
आबू रोड, 14 सितम्बर, निसं। पर्यावरण संरक्षण के तहत ब्रह्माकुमारीज संस्थान द्वारा वृक्षारोपण अभियान चलाया गया था। जिसके तहत आबू रोड, माउण्ट आबू तथा सिरोही जिले में जगह जगह पर बड़े बड़े पौधे लगाकर उसकी संभाल करने का संकल्प कराया गया था। इसके साथ ही उसे नुकसान ना हो ट्री गार्ड भी उपलब्ध कराये गये थे। वह वे पौधे पेड़ की शक्ल में तेजी से बढऩे लगे हैं। ब्रह्माकुमारीज संस्थान के तपोवन में बरगद, पीपल, आम, जामुन समेत कई प्रकार के पौधे लगाये गये थे जो अब पूरी तरह से पेड़ बनने की ओर अग्रसर है।

हालाकि यह अभियान पूरे देश में चलाया गया था और बीस लाख पौधे रोपे गये थे, परन्तु आबू रोड, सिरेाही तथा माउण्ट आबू में विशेष तौर पर वृक्षारोपण अभियान चलाकर पचास हजार पौधे लगाये गये थे। तलहटी से लेकर किवरली टोलनाके, मानपुर समेत शहर के विभिन्न स्थानों के साथ अन्य जगहों पर भी पौधे लगाये गये थे जो पेड़ की शक्ल लेने लगे है। इससे पर्यावरण की रक्षा तो होगी ही साथ ही प्रकृति का भी हमें सहयोग मिलेगा। ब्रह्माकुमारीज संस्थान के तपोवन में तो पूरे जंगल की तरह पेड़ पौधों ने अपनी शक्ल ले ली है। ब्रह्माकुमारीज संस्थान अभी भी इनकी देखभाल कर रहा है साथ में समय समय पर पानी आदि भी डालने का प्रबन्ध किया गया था जिससे वे पौधे गर्मियों में मरे नहीं और आज वे पेड़ों की भांति तेजी से बढऩे लगे हैं।
पर्यावरण संरक्षण की दिशा में प्रत्येक व्यक्ति को पहल करने की जरूरत है। ताकि पर्यावरण संरक्षण कर मानव जिन्दगी को आने वाले खतरे से बचाया जा सके।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *