सभी आध्यात्मिक जगत की सबसे बेहतरीन ख़बरें
ब्रेकिंग
सही शिक्षा, सही सोच और सही ज्ञान ही हमें ताकत दे सकता है कला के जादू से जीवंत हो उठी रचनाएं, सम्मान से बढ़ाया कलाकारों का मान कलाकार कैनवास पर उकेर रहे मन के भाव कारगिल युद्ध में परमात्मा की याद से विजय पाई: ब्रिगेडियर हरवीर सिंह भारत और नेपाल में भाईचारा का नाता है: नेपाल महापौर विष्णु विशाल राजनेताओं का जीवन आध्यात्मिक होगा तो भारत समृद्ध बनेगा सेना जितनी सशक्त रहेगी हम उतनी शांति से रहेंगे: नौसेना उपप्रमुख घोरमडे
मूल्य ही सुरक्षा कवच का कार्य करेगा - Shiv Amantran | Brahma Kumaris
मूल्य ही सुरक्षा कवच का कार्य करेगा

मूल्य ही सुरक्षा कवच का कार्य करेगा

राष्ट्रीय समाचार

सुरक्षा सेवा प्रभाग द्वारा आयोजित ई कान्फ्रेंस में व्यक्त विचार

शिव आमंत्रण, माउंट आबु। मुख्यालय से सुरक्षा सेवा प्रभाग द्वारा आयोजित ई कान्फ्रेंस के दूसरे दिन सेना और पुलिस के कई अधिकारी इस कान्फ्रेंस में शामिल हुए और अपने व्यक्तिगत अनुभवों से समझाने का प्रयास किया कि मूल्यों की धारणा से व्यक्ति देश के लिए मूल्यवान और आदर्श नागरिक बन सकता है।
दो दिवसीय इस ई-कान्फ्रेंस में संस्थान के सदस्यों का मूलरूप यही कहना था कि देशवासीयों की सुरक्षा के लिए समर्पित सुरक्षा कर्मीयों को अपना ध्यान रखने के लिए जीवन में ज्यादा से ज्यादा मूल्यों को धारण करें क्योंकि मूल्य ही आपके लिए सुरक्षा कवच का कार्य करेगा।
सुरक्षा सेवा प्रभाग के चेअर पर्सन अशोक गाबा ने कहा, मुझे बहुत हर्ष है कि आप इस प्रोग्राम मे आये। लेह्लटनंट जनरल नायडू, अडमिरल लांबा और लेह्लटनंट जनरल जमाल इन सबको मै जानता हूं। उड्ढहोने भी प्रोग्राम का बहुत अच्छा आनंद लिया। इसमें भाग लेनेवाले सब पार्टिसिपंट का ङ्घाड्ढयवाद करता हूं।
सुरक्षा प्रभाग की राष्ट्रीय समन्वयक बीके कमला ने कहा, कहावत है बोया पेड बबुल का आम कहां से खाये? जो बोते है वही काटते है। तो ऐसे ही हमे श्रेष्ठ संकल्प, शुध्द संकल्प, शक्तिशाली संकल्प करे तो कोई भी कार्य मुश्किल नही।
लेह्लटनंट जनरल जमाल के. एस. जमाल ने कहा, मेरे चालीस साल के तजुर्बे में ये मैने देखा है कि अगर लीडरशीप, हरेक स्तर की लिडरशीप अगर अच्छी है, मजबूत है तो जवान हर वक्त अपनी ड्यूटी सोला आने करेंगे।
मेजर जनरल अजय चतुर्वेदी ने कहा, किसी भी देश की सभ्यता और संस्कृती विकास की उंचाई तय करती है। मूल्य उसकी दिशा तय करते है। उसका एक्स्टेंट उसका अटिट्यूड या मनोवृत्ति तय करते है। भारत वर्ष पिछले पांच हजार साल में जो मूल्य निकल कर आये है उसमे प्रमुख मूल्य है धर्म, सत्य, सत्यनिष्ठा, संवेदना और समर्पण।
21 सी, सीआरपीएफ के नारायण बलाय ने कहा, माउंट आबु मे ज्ञान सरोवर कैंप मे मैने चार दिन राजयोग कोर्स किया। इस कोर्स के दौरान वहां पे रहनेवाले भाई बहनों को देखा और साथ में अपने और दूसरे साथीयों को भी देखा, तो मुझे यह अनुभव हुआ कि किन वैल्यूज के साथ हम अपनी सर्विस कर रहे है जो कि हमारे प्रोफेशनल लाईफ को और हमारे जीवन को कितना इफेक्टिव बनाती है। कोर्स करते समय मैने देखा कि किसी भी प्रकार का धर्म, जाती, भाषा का अंतर नही है, हमारी फोर्सेस मे भी नही होता है। वहां के भाई-बहन भी साहचर्य, डिसीप्लिन में है, त्यागी जीवन जी रहे है और वो भी समाज की उन्नति के लिए अपना योगदान दे रहे है।
एनसीआरबी के डायरेक्टर रामपाल पवार ने कहा, हर एक चीज में कुछ न कुछ अच्छा होता है। उसको निकाल के उसको यूज करते है तो हर प्रकार का हल भी मिलता है। उनके माध्यम से जीवन मे सफलता कहे या दिशा कहे, जीने का एक तरिका कहे वो काफि मुझे सीखने को मिला है।
आयटीबीपी के डायरेक्टर जनरल एस. एस. देसवाल ने कहा, अपनी ऊर्जा का सही उपयोग करने के लिए इश्वर ने हर एक को मर्यादित ऊर्जा दी है इसलिए इसका सही तरीके से उपयोग करे। अपनी प्राप्ति के लिए कर्म भी हमे यही करने के लिए प्रेरित करता है।
नेशनल सिक्युरिटी गार्ड विनय दधवाल ने कहा, माय फेथ इज दॅट माय गॉड इज विथ मी। वाटेवर ही डज इज फार माय बेटरमेंट। सियाचीन ग्लेसियर में, जहां नेगेटीव एनर्जी जादा है वहां भी मैने उसके साथ का अनुभव किया। मेरा साथ देने के लिए मै तहे दिल से उसका शुक्रिया अदा करता हूं। हर पल के लिए मै उसका आभारी हूं और रहुंगा।
ओडिशा पुलिस के एडीजी सौम्या मिश्रा ने कहा, ये जो वैल्युज है वह सिर्फ मेरा काम एफिसएिंटली करने के लिए नही है बल्कि मेरे खुद जैसे कि एक रक्षक, कवच के जैसे बन के रहते है। क्योंकि एक लक्ष्मण रेखा के जैसा डाला गया था। आय डू नाट प्रोसीड, आय स्टे इन माय वैल्यूज। यही वैल्यूज ने सेक्युरिटीज में एफिसिएंट बनाये और मेरे छाता जैसे प्रोटेक्शन देते रहे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *