सभी आध्यात्मिक जगत की सबसे बेहतरीन ख़बरें
ब्रेकिंग
सही शिक्षा, सही सोच और सही ज्ञान ही हमें ताकत दे सकता है कला के जादू से जीवंत हो उठी रचनाएं, सम्मान से बढ़ाया कलाकारों का मान कलाकार कैनवास पर उकेर रहे मन के भाव कारगिल युद्ध में परमात्मा की याद से विजय पाई: ब्रिगेडियर हरवीर सिंह भारत और नेपाल में भाईचारा का नाता है: नेपाल महापौर विष्णु विशाल राजनेताओं का जीवन आध्यात्मिक होगा तो भारत समृद्ध बनेगा सेना जितनी सशक्त रहेगी हम उतनी शांति से रहेंगे: नौसेना उपप्रमुख घोरमडे
मानपुरा हवाईपट्टी को हवाई अड्डे के रूप का प्रस्ताव - Shiv Amantran | Brahma Kumaris
मानपुरा हवाईपट्टी को हवाई अड्डे के रूप का प्रस्ताव

मानपुरा हवाईपट्टी को हवाई अड्डे के रूप का प्रस्ताव

मुख्य समाचार राष्ट्रीय समाचार

नईदिल्ली16सितम्बर, 2020 बुधवार। जालोर सिरोही लोकसभा सांसद देवजी पटेल ने मंगलवार को लोकसभा सत्र के दौरान सिरोही जिले के मानपुरा हवाई पट्टी को हवाई अड्डे के रूप में विकसित कर वायुसेवा प्रारम्भ करने की मांग रखी।
सांसद पटेल ने संसद में बताया कि सिरोही जिला में माउंट आबु और शक्तिपीठ अम्बाजी मंदिर दो विश्वस्तरीय प्रसिद्ध पर्यटन स्थल हैं, जहां प्रतिवर्ष लगभग देश और विदेश के 23 लाख से ज्यादा पर्यटन आते है।माउंट आबू राजस्थान का एकमात्र हिलस्टेशन है, जिसेराजस्थान का कश्मीर कहाजाता है। पर्यटन की दृष्टि से बहुत महत्वपूर्ण है, पिछले कुछ समय से विभिन्न बाधाओं के कारण पर्यटन प्रभावित हुआ है।माउंट आबू में केन्द्रिय रिजर्वपुलिस बल का (सीआरपीएफ) आफिसर ट्रेनिग सेंटर है, जो कि सेना की दृष्टि से भी यह स्थान महत्वपूर्ण है।मानपुरा आबू रोड़ में हवाई पट्टी है, उसका विस्तार कर हवाई अड्डे में परिवर्तन किया जाए और नियमित उड़ानें की व्यवस्था की जाए, क्योंकि माउंट आबू में डेस्टिनेशन वेडिंग के हिसाब से बहुत संभावना है और फिल्म यूनिट के लिए भी एक आइडल लोकेशन हैं। ब्रम्हाकुमारी का अंतरराष्ट्रीय केंद्र भी माउंट आबू में है, जिसमें काफी संख्या में विदेशी लोग आते हैं, उन्हें भी बहुत कठिनाई का सामना करना पड़ता है।जालोर जिले का सुंधामाता तीर्थ, 72 जिनालय जैन मंदिर तथा स्वर्णगिरि दुर्ग सहित अति प्राचिन जैन मंदिर जीरावल सहित विभिन्न पर्यटकस्थल भी सिरोही से नजदीक है। ऐसेमें कम समय मे पर्यटकों का इन सभी स्थलों पर जाना सुलभ हो जायेगा।
सांसदपटेल ने बताया कि मानपुरा आबू रोड में 30 सीटरविमान आसानी से उतारे जा सकते है, अबतक इसका इस्तमाल सिर्फ वीआईपी उडानों के लिए किया जाता रहा है। यहां से हवाई सेवा प्रारंभ करने से माउंट आबू के पर्यटन व्यवसाय को बढावा मिलेगा साथ ही सैलानियों एवं व्यापारियों को भी बडे शहरों से यहॉ पहुंचना बहुत आसान हो जायेगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *