सभी आध्यात्मिक जगत की सबसे बेहतरीन ख़बरें
ब्रेकिंग
सही शिक्षा, सही सोच और सही ज्ञान ही हमें ताकत दे सकता है कला के जादू से जीवंत हो उठी रचनाएं, सम्मान से बढ़ाया कलाकारों का मान कलाकार कैनवास पर उकेर रहे मन के भाव कारगिल युद्ध में परमात्मा की याद से विजय पाई: ब्रिगेडियर हरवीर सिंह भारत और नेपाल में भाईचारा का नाता है: नेपाल महापौर विष्णु विशाल राजनेताओं का जीवन आध्यात्मिक होगा तो भारत समृद्ध बनेगा सेना जितनी सशक्त रहेगी हम उतनी शांति से रहेंगे: नौसेना उपप्रमुख घोरमडे
दादी हृदयमोहिनी की वैकुण्ठी यात्रा में नम हुई श्रद्धालू दर्शकों की आंखे, आज होगा शांतिवन में अंतिम संस्कार - Shiv Amantran | Brahma Kumaris
दादी हृदयमोहिनी की वैकुण्ठी यात्रा में नम हुई श्रद्धालू दर्शकों की आंखे, आज होगा शांतिवन में अंतिम संस्कार

दादी हृदयमोहिनी की वैकुण्ठी यात्रा में नम हुई श्रद्धालू दर्शकों की आंखे, आज होगा शांतिवन में अंतिम संस्कार

मुख्य समाचार

शिव आमंत्रण,माउंट आबू, 12 मार्च। प्रजापिता ब्रह्माकुमारी ईश्वरीय विश्वविद्यालय की मुख्य प्रशासिका राजयोगिनी दादा हृदयमोहिनी जी की वैकुण्ठी यात्रा के दौरान पुष्प अर्पित करने वालों की आंखें हुई नम। माउंट आबू में कई स्थानों पर श्रद्धालूओं द्वारा श्रद्धाजंलि दी गई।
सवेरे आठ बजे आबूरोड स्थित शांतिवन तलहटी से वैकुण्ठी यात्रा आरंभ हुई। माउंट आबू प्रवेशद्वार वाहनकर नाके से होते हुए सीधे संगठन के ज्ञान सरोवर अकादमी परिसर में पहुंची। जहां ज्ञान सरोवर निदेशिका राजयोगिनी डॉ. निर्मला समेत संगठन के अन्य सदस्यों ने दादी के पार्थिव देह को पुष्प अर्पित कर श्रद्धांजलि दी। मेडिटेशन किया गया। जिसके बाद दादी की वैकुण्ठी को ग्लोबल अस्पताल ले जाया गया। जहां अस्पताल निदेशक डॉ. प्रताप मिढ्ढा, अस्पताल के चिकित्सकों समेत अन्य स्टॉफ ने दादी को श्रद्धा सुमन अर्पित किए।
वैकुण्ठी के संगठन के अंतर्राष्ट्रीय मुख्यालय पांडव भवन परिसर में पहुंचने पर दादी की पार्थिव देह को श्रद्धालूओं के दर्शनार्थ हिस्ट्री हॉल में रखा गया। जहां खेल प्रभाग उपाध्यक्ष बीके शशिप्रभा, प्रशासक प्रभाग अध्यक्ष बीके आशा बहन, कार्यक्रम निदेशिका बीके मुन्नी बहन, दिवंगत दादी की निजी सचिव बीके नीलू बहन समेत संगठन के सदस्यों ने पुष्प अर्पित कर नम आंखों से श्रद्धा के पुष्प अर्पित किए। संगठन के अतिरिक्त मुख्य सचिव बीके बृजमोहन आनंद ने दादी हृदयमोहिनी के जीवन चरित्र की विशेषताओं पर प्रकाश डाला।
इन्होंने भी दी श्रद्धाजंलि
पाण्डव भवन से दादी की वैकुण्ठी ओम शान्ति भवन से होते हुए शांतिवन के लिए रवाना हुई। मार्ग में होटल एसोसिएशन माउंट आबू (हामा), माउंट आबू होटल ऐसोसिएशन (माहा), लांयस क्लब, सदर बाजार व्यापारी संघ, मस्जिद मार्केट, मुस्लिम समाज, नक्की मार्केट, आध्यात्मिक संग्राहलय, स्ट्रीट वेंडर, तिब्बतन मार्केट, नगरपालिका, लघु व्यापार संघ, वर्मा टेक्सी युनियन, होटल हिल्लॉक, अरावली टेक्सी यूनियन, भाजपा नगर मंडल, राष्ट्रीय करणी सेना, महाराणा प्रताप टेक्सी युनियन, नगर कांग्रेस कमेटी, रोटरी क्लब समेत बड़ी संख्या में विभिन्न समाजसेवी संगठन के पदाधिकारियों व कार्यकर्ताओं व निजी तौर पर लोगों ने दादी हृदयमोहिनी को पुष्पांजलि अर्पित की। जिसके उपरांत दादी जी के पाॢथव देह को शांतिवन पहुंचाकर कॉन्फ्रेंस हॉल में दर्शनार्थ रखा गया। शनिवार को (आज) शान्तिवन परिसर में दादी के पार्थिव देह का संस्कार किया जाएगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published.