सभी आध्यात्मिक जगत की सबसे बेहतरीन ख़बरें
ब्रेकिंग
सही शिक्षा, सही सोच और सही ज्ञान ही हमें ताकत दे सकता है कला के जादू से जीवंत हो उठी रचनाएं, सम्मान से बढ़ाया कलाकारों का मान कलाकार कैनवास पर उकेर रहे मन के भाव कारगिल युद्ध में परमात्मा की याद से विजय पाई: ब्रिगेडियर हरवीर सिंह भारत और नेपाल में भाईचारा का नाता है: नेपाल महापौर विष्णु विशाल राजनेताओं का जीवन आध्यात्मिक होगा तो भारत समृद्ध बनेगा सेना जितनी सशक्त रहेगी हम उतनी शांति से रहेंगे: नौसेना उपप्रमुख घोरमडे
नकारात्मकता को लॉक डाउन करे खुशी के खजाने के साथ जीना सीखें - Shiv Amantran | Brahma Kumaris
नकारात्मकता को लॉक डाउन करे खुशी के खजाने के साथ जीना सीखें

नकारात्मकता को लॉक डाउन करे खुशी के खजाने के साथ जीना सीखें

अन्तर्राष्ट्रीय समाचार

आनलाइन बात करते हुए बीके सुदेश

शिव आमंत्रण, कुवैत सिटी। वीकनेस यानी कमजोरी वा थकान। ये थकान अगर शारीरिक हो तो वक्त के साथ दवाइयों से ठीक होने की सम्भावना होती है लेकिन अगर ये मानसिक है तो इसमें कोई भी दवाई काम नहीं आ सकती। इसपर एकमात्र उपाय है योग एवं सकारात्मक विचार। इन्ही कुछ गहन बातों पर अपने विचार रखे जर्मनी में ब्रह्माकुमारिज की निदेशिका बीके सुदेश ने। ब्रह्माकुमारिज कुवैत द्वारा आयोजित सेशन गोल्डन की टू लॉक द डोर ऑफ वीकनेस पर वो संबोधित कर रहे थे।
इस मौके पर बीके सुदेश ने कहा, कोरोना महामारी आने के बाद सबको देश – विदेश स्तर पर लॉकडाउन करना पडा। नही करते तो जान की बाजी थी। यह जबरदस्ती करना पडा लेकिन नकारात्मक सोच के कारण हम दुख ले रहे है और खुशी और आनंद का जीना दुख से जी रहे है। तो खुशी से जीने के लिए नकारात्मकता को लॉक डाउन कर क्यों न हम सकारात्मकता को अपनाये? हमारे पास खुशी का बहुत खजाना है लेकिन हमने नकारात्मकता में उसको लॉक कर के रखा हुआ है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

खबरें और भी